Friday, January 3, 2020

Short information about cancer dr. Bansode


 केंसर के बारे में संक्षिप्त जानकारी
                                     
( लेखक :- डॉ के बी बंसोडे )
                 
प्रश्न 01 :-  केंसर क्या है ?
सामान्यतः हमारे शरीर के सभी अंगों में कोशिकाएं अपना निर्धारित कार्य करती रहतीं हैं. वे अपना जीवनकाल पूरा करती है तथा नई कोशिकाओं को अपने स्थान पर स्थापित करती रहती है. लेकिन केंसर की बीमारी में कोशिका का कार्य गड़बड़ हो जाता है.







केंसर एक ऐसी बीमारी है जिसमे हमारे शरीर के किसी अंग की कोई एक कोशिका में अचानक ही असामान्य विकास होने लगता है . धीरे धीरे यह कोशिका अन्य दूसरी कोशिकाओं को भी प्रभावित करके दूसरी आसपास की सभी सामान्य कोशिकाओं को नुकसान पहुँचाने लगती है .यह इकलौती कोशिका जो अपना सामान्य निर्धारित कार्य छोड़कर, वह अपना खुद का विकास तेज गति से करती है . इस समय वह अपने आसपास की सभी दूसरी सामान्य कोशिकाओं के विकास को भी बाधित करती है , तथा उनके कार्यों को भी प्रभावित करके उन्हें नष्ट करती है . इसके कारण असामान्य कोशिकाओं का एक समूह निर्मित हो जाता है , तथा वह एक गांठ का रूप ले लेता है ..इस समय  शरीर का सामान्य क्रियाकलाप गड़बड़ा जाता है . तथा विभिन्न प्रकार की गड़बड़ी शरीर में दिखाई देती है . इसे ही केंसर कहते हैं.





प्रश्न 02 :- शरीर में कोई भी गांठ केंसर ही होती है ?
आमतौर पर जो भी गांठ शरीर के किसी भी हिस्से में दिखाई देती है , वह जरुरी तौर पर केंसर की ही गांठ हो यह कहना सही नहीं है . गांठ दो प्रकार की होती हैं . (1) सामान्य गांठ जिसे चिकित्सीय भाषा में बेनाईन ट्यूमर ( साधारण गांठ) कहते हैं . जो आमतौर पर शरीर को कोई अधिक नुकसान नहीं पहुँचाती है .
 (2) दुसरे तरह की असामान्य गांठ जिसे चिकित्सीय भाषा में मेलिग्नेन्ट या कार्सिनोजेनिक ट्यूमर (केंसर की गांठ ) कहते हैं . यह अत्यधिक घातक होती है .
प्रश्न 03 :- केंसर कितने प्रकार के होते हैं ?
सारकोमा, मेलोनोमा, लिम्फोमा एवम लयूकेमिया .यह चार प्रमुख प्रकार के केंसर शरीर में होते हैं
सारकोमा :- हड्डियों , मांस पेशियों , लीवर ,पेन्क्रियास जैसे सभी ग्रंथियों का
          केंसर होता है .
मेलोनोमा :- यह शरीर की त्वचा का केंसर होता है
लिम्फोमा :-  लिम्फ ग्रंथि का केंसर होता है .
लयूकेमिया:-  यह रक्त का केंसर होता है . यह दुसरे अन्य प्रकार के केंसर की तरह गांठ का निर्माण नहीं होता है बल्कि इसमें रक्त कण अन्य प्रकार की दुसरे रक्त कणों को नष्ट करता है तथा उनके सामान्य विकास में बाधक होता है .


प्रश्न 04 :-  केंसर कहाँ कहाँ होता है ?
           केंसर शरीर के किसी भी अंग में या सभी अंदरूनी या बाह्य अंगों में कहीं भी हो सकता है .






प्रश्न 05 :- महिलाओं में कौन कौन से केंसर प्रमुख होते हैं ?
          वैसे तो महिलाओं को भी पुरुषों की तरह सभी प्रकार के केंसर होते हैं लेकिन महिलाओं में ज्यादातर स्तन के केंसर तथा बच्चे दानी के केंसर भी होते हैं .इसके आलावा मुख के केंसर , फेफड़े का केंसर एवम् पेट के आमाशय का केंसर भी अधिकतम होता है .

 प्रश्न 06 :- पुरुषों में कौन कौन से केंसर होते हैं ?
         पुरुषों में ओंठ तथा मुख के केंसर, फेफड़े का केंसर, आमाशय का केंसर आहार नली का केंसर, गुदा द्वार का केंसर तथा प्रोस्टेट ग्रंथि का केंसर अधिकतम होता है .

प्रश्न 07 :- क्या केंसर की बीमारी छूत जैसी बीमारी होती है ?
         नहीं , यह छूत जैसी बीमारी नहीं है . यह दरअसल एक तरह की जेनेटिक बीमारी की तरह ही होती है . यदि परिवार के किसी भी सदस्य को केंसर की बीमारी होती है , तो मरीज के साथ किसी भी प्रकार की दुरी रखना या उसके साथ किसी भी तरह का भेदभाव , अलगाव या  दुर्व्यवहार करना सही नहीं है .मरीज के साथ एक ही कमरे में रहने से , साथ उठने – बैठने , खाने –पीने, एक बिस्तर पर सोने से या एक ही थाली में खाना खाने , एक ही गिलास से पानी पीने से केंसर की बीमारी दुसरे सामान्य व्यक्ति को नहीं हो जाती है लेकिन केंसर के मरीज को स्वच्छता पूर्वक रखना , उसके खान-पान पर ध्यान दिया जाना आवश्यक है केंसर के मरीज को  जब शारीरिक तकलीफ होती है , तो उसके साथ बहुंत ही संवेदना पूर्वक सहानुभूति के साथ अपनत्व भरा व्यवहार करने की जरूरत होती है . क्योकि केंसर के मरीज की बीमारी के कारण उसकी भावनात्मक तौर पर उसके जीवित रहने की आशा  कमजोर हो जाती है .यदि केंसर के मरीज को हम पूरी सहानुभूति के साथ बीमारी से  लड़ने की हिम्मत देते हैं, तो उसकी जीवन जीने की उम्मीद बढ़ जाती है तथा इस तरह केंसर का मरीज बीमारी को भी हरा सकता है .

प्रश्न 08 :- केंसर कैसे होता है ?
        प्रमुख रूप से कोशिका में जेनेटिक परिवर्तन से शरीर की कोशिका के डी एन ए में बदलाव हो जाता है.  जिसकी वजह से कोई सामान्य कोशिका केंसर की कोशिका में बदल जाती है जब हम बीमारी के लिये जिम्मेदार कारणों की पड़ताल करते हैं , तो हमें निम्नलिखित अनेक प्रकार के कारणों को जानना तथा उनके बारे में विचार करना आवश्यक हो जाता है . 
(a)           जैसे सूर्य की किरणों से उत्पन्न अल्ट्रावाईलेट रेडीऐशन
(b)  अनेक प्रकार के रेडिओऐक्टिव पदार्थ द्वारा उत्सर्जित रेडीऐशन ,
    (c) रासायनिक पदार्थ जो तम्बाखू ,गुटका ,तम्बाखू से निर्मित या बिना तम्बाखू वाले पौऊच, गुड़ाखू , बीडी या सिगरेट के द्वारा शरीर में पहुँचते हैं . 
     (d)  अनियमित जीवन शैली तथा भोजन में अत्यधिक तेल घी मिर्च और मसालों के इस्तेमाल से भी केंसर होने की सम्भावना होती है .
    (e)  महिलाओं में बच्चे दानी के केंसर, पुरुषों के मल द्वार , पुरुषों के लिंग का केंसर के लिए “ हयूमन पैपिलोमा वाइरस” जिम्मेदार माना जाता है..अन्य दुसरे प्रकार के केंसर के लिये लगभग 15 प्रतिशत केंसर का कारण हिपेटाइटीस बी वाइरस , हिपेटाइटीस सी वाइरस , एड्स बीमारी ,हेलिकोबेक्टर पैलोराई नामक जीवाणुओं के कारण भी केंसर होने की सम्भावना होती है .

     (f)   जीवनशैली में गड़बड़ी के कारण नियमित तौर पर शारीरिक व्यायाम या कसरत के आभाव में अधिक मोटापा होना भी अनेक प्रकार के केंसर का कारण माना जाता हैं . शरीर के व्यायाम के आभाव में भोजन नली , आहारनाली, आमाशय इत्यादि के केंसर होना सामान्य है . नियमित व्यायाम के अभाव में लगातार कब्ज की शिकायत से बड़ी आँत के केंसर से लेकर रेक्टम ( गुदा द्वार ) तक के केंसर की सम्भावना होती है .
        (g)    कृषि कार्यों में नियमित तौर पर विभिन्न प्रकार से इस्तेमाल किये जाने वाले रासायनिक खाद , कीटाणु नाशक पदार्थ , कीट पतंगों को दूर रखने के लिए इस्तेमाल होने वाले सभी प्रकार के रसायन  भी हमारे शरीर मे केंसर पैदा करने वाले तत्व हैं .
 (h)     मच्छर मक्खी को दूर भगाने वाले रसायन भी केंसर के लिए जिम्मेदार हैं .
 (i)    नदी के पानी में विभिन्न फेक्टरियों द्वारा फेक्टरियों के विभिन्न प्रकार के अनुपयोगी रसायन को बहा देने से नदी का पानी भी प्रदूषित हो रहा है इस  प्रदूषित पानी के नियमित इस्तेमाल से समस्त प्रकार के जिव जंतु भी अनेक प्रकार की बीमारी से बीमार हो जाते हैं , उनमे से एक बीमारी केंसर भी है .
  (j)    शहरों में फेक्टरियों (कारखानों) के द्वारा विभिन्न प्रकार का वायु प्रदुषण भी किया जाता है . धुल , धुंवा, तथा विभिन्न प्रकार की गैस जो कारखानों की बड़ी बड़ी चिमनियों से निकालकर वायुमंडल की हवा को प्रदूषित करने से वायु प्रदूषित होती है . यह वायु प्रदुषण भी विभिन्न प्रकार की बिमारियों के साथ ही केंसर के लिए भी जिम्मेदार है .
   (k)   शराब के नियमित इस्तेमाल से आहार नली, लीवर, एवम स्वरतंत्र के केंसर की सम्भावना होती है .
   (l)  माता पिता के जींस के द्वारा भी केंसर होने की संभावना होती है.


प्रश्न 09 :- केंसर की बीमारी के प्रारम्भिक लक्षण क्या हैं ?
(1) मुँह के भीतर ओठों , जीभ ,मसूढ़ों या गाल के अंदर यदि किसी भी प्रकार के छाले हों ,जो लगातार कई दिनों से ठीक नहीं हो रहे हों .
(2) शरीर के किसी भी हिस्से में हुई गांठ . जो की उस जगह पहले कभी नहीं हुई थी . वह  यदि केंसर की गांठ होगी तो उसकी वृद्धि अधिक तेज गति से होती है . गांठ में दर्द भी हो सकता है ,या कभी कोई गांठ बिना दर्द के भी हो सकती है .जैसे की किसी भी महिला के स्तन में गांठ होने पर भी दर्द नहीं होता है . इसलिये शरीर के किसी भी हिस्से या अंग में बनी कोई भी गांठ की जानकारी मिलते ही जाँच करवाना आवश्यक है .
(3) लगातार बदहजमी हो या भोजन के पाचन की समस्या हो , कब्ज की शिकायत हो तो तुरंत चिकित्सक से परामर्श लेना अच्छा होता है .
(4) शरीर के किसी भी हिस्से से अचानक खून बहना भी केंसर का लक्षण हो सकता हैं .खांसी के साथ खून निकलना , उल्टी होने पर पेट से खून निकलना भी केंसर का एक कारण  हो सकता  है .पेशाब नली से खून निकलना , मल द्वार से टट्टी के साथ खून निकलना , बच्चेदानी से माहवारी के आलावा भी अचानक खून निकलना या सफ़ेद पानी का लगातार निकलना इत्यादी भी केंसर का कारण हो सकता है .
(5) खांसी का बिना रुके लगातार होना या कभी आवाज में भारीपन होना स्वरनालिका के केंसर का कारण भी हो सकता है .
(6) अचानक से शरीर का वजन गिर जाना भी किसी  छिपे हुवे केंसर का कारण हो सकता है .

प्रश्न 10  :- सामान्यतः हमारे देश में कितने प्रकार के केंसर होते हैं ?  
विश्व में लगभग 100 विभिन्न  प्रकार के केंसर होते हैं. यह हमारे शरीर के किसी भी हिस्से में होते हैं . हमारे देश में सामान्यतः 51 प्रकार के केंसर होते हैं महिलाओं में :- गर्भाशय के केंसर तथा स्तन के केंसर अधिक  होते हैं.पुरुषों  में  :- प्रोस्टेट का केंसर होता है , जो महिलाओं में नहीं होता , क्योकि यह ग्रंथि महिलाओं के शरीर में प्राकृतिक तौर पर ही नहीं होती है .
  महिलाओं तथा पुरुषों में :- बाकि सभी प्रकार के केंसर दोनों में होते हैं.  

  प्रश्न 11:- केंसर बीमारी की सांख्यिकी की जानकारी क्या है ?

         हमारे देश में भारत सरकार के मंत्रालय :- “स्वास्थ्य एवम् परिवार कल्याण विभाग “ द्वारा एक विभाग “Indian Council of Medical                  Resaerch “ का गठन किया गया है . जिसका कार्य देश में विभिन्न प्रकार के रिसर्च करना है , जिसमें जनता के स्वास्थ्य समस्या ,उनकी भौगोलिक स्थिथि, वहां के पर्यावरण , जनसख्या के अनुपात इत्यादि को जानना समझाना तथा उसके लिए विभिन्न कार्यक्रम भी तैयार  है . ICMR के अनुसार भारत में लगभग 14 लाख केंसर के मरीज हैं सन 2035 तक यह संख्या 38 लाख तक बढ़ जायेगी. लगभग 7 लाख व्यक्तियों की मृत्यु , प्रतिवर्ष केंसर की बीमारी से हो जाती है .हमारे देश में विभिन्न प्रकार की बिमारियों से होने वाली मृत्यु में  सबसे अधिक मृत्यु दर में, केंसर से मृत्यु की दर दुसरे नम्बर पर है, पहले नम्बर पर  ह्रदय रोग से मृत्यु होने वाले लोगो की संख्या है .केंसर की बीमारी के उपचार में होने वाला खर्च सबसे अधिक होता है . एक अध्ययन से यह जानकारी मिली है कि यदि सरकार द्वारा , किसी स्वयंसेवी संस्था द्वारा , या गैरसरकारी संस्था द्वारा भी मरीज की केंसर की बीमारी का खर्च भले ही वह वहन करे तो भी , इसके बावजूद  मरीज के परिवार का ही व्यक्तिगत  खर्च जो अलग से किया जाता है ,वह बीमारी के  उपचार के कुल खर्च का एक तिहाई खर्च उसकी जेब से निकल जाता है . हार्ट की बीमारी का जो अधिकतम खर्च होता है उससे दुगुना खर्च केंसर की बीमारी के उपचार में लग जाता है .किसी साधारण बीमारी की तुलना में लगभग 160 प्रतिशत खर्च केंसर की बीमारी के उपचार में हो जाता है .NPCDCS यानि “National Programmes for Prevention  of Cancer, Diabetes,  Cardiovascular disease and Stroke” के द्वारा यह जानकारी मिलती है कि भारत में सामान्तः स्तन केंसर,बच्चेदानी का केंसर तथा मुख का केंसर बाकि अन्य प्रकार के केंसर की तुलना में लगभग 34% है .ये तीनो प्रकार के केंसर जिनकी पहचान बीमारी के प्राथमिक चरण में ही की जा सकती है , तथा यदि इसका उपचार जल्द से जल्द शुरू कर दिया जाये ,तो बीमारी से मृत्यु होने की संभावना काफी कम हो जाती है . केंसर की बीमारी के बाद जो व्यक्ति 5 वर्ष या उससे अधिक जीवित रह सकते हैं . उनमे  60.2% मुख के केंसर वाले मरीज , 76.3 % स्तन केंसर के मरीज तथा 73.2% गर्भाशय के केंसर वाले मरीज जीवित रहते हैं .

 GLOBOCAN 2012 के अनुसार पुरे विश्व में जितने भी प्रकार के केंसर होते हैं , उसके 7.2 % केंसर के  मरीज भारत में हैं . भारत में केंसर के मरीजों की मृत्यु दर भी विश्व के अन्य देशों की तुलना में जो की बहुँत अधिक यानि  8.3% है.  क्योकि भारत में अज्ञानता के कारण केंसर  की बीमारी की पहचान देर से हो पाती है , तथा अशिक्षा के कारण बीमारी को अधिक महत्व नहीं दिया जाता है तथा गरीबी के कारण उपचार पूरी तरह नहीं करवाया जाता है .
प्रश्न 12 :- केंसर की जाँच के लिये कौन कौन सी पद्धति अपनाई जाती है ?
          केंसर की जाँच के लिए खून की जाँच , पेशाब की जाँच , सोनोग्राफी , एक्स रे , ऍम आर आई तथा गांठ की कोशिका को एक सुई के द्वारा निकालकर उसकी सूक्ष्म दर्शी यन्त्र से जाँच जिसे Biopasy (बायोप्सी) कहते हैं , महिलाओं के गर्भाशय में केंसर की जाँच के लिए “ Pep Smear” नामक शुरुवाती जाँच की जाती है . इस जाँच में महिला के जननांग से स्रावित होने वाले Vaginal Fluid ( वेजाइनल फ्लूइड ) की जाँच की जाती है . महिलाओं में होने वाले स्तन केंसर की जाँच के लिए मेमोग्राफी नामक जाँच की जाती है . आजकल एक नई मशीन के द्वारा भी पूरे शरीर की जाँच “ PET Scan “ (Positron Emission Tomography scan) से की जाती है . इस मशीन से पुरे शरीर का अध्ययन करके केंसर के फैलाव या उसके विस्तार या को देखा जा सकता है कि केंसर अपने मूल स्थान से आगे किस किस अंग तक फ़ैल चूका है . इन सब जाँच में जब  केंसर की बीमारी की पुष्टि हो जाती है तब उसके बाद ही केंसर का  उपचार निर्धारित किया जाता है . केंसर का उपचार करने वाले विशेषग्य विभिन्न प्रकार के जाँच के पश्चात् ही यह निर्धारित करते हैं कि किसी भी मरीज के केंसर अभी किस स्टेज में हैं . केंसर की बीमारी का उपचार उसके स्टेज (चरण ) द्वारा ही निर्धारित होता है . केंसर की बीमारी के स्टेज के निर्धारण के  लिए गांठ की साइज़ , उसके शरीर के अन्य अंगों में प्रसारण या विस्तार  की स्तिथि इत्यादि के अध्ययन के पश्चात् ही उसके उपचार को निश्चित किया जाता है . केंसर जब शरीर के किसी एक अंग में शुरू होता है , तो वह रक्त तथा लिम्फ ग्रंथि के द्वारा भी शरीर के दुसरे अंग तक पहुँच जाता है . इसलिए उपचार के पहले ही इस सब  का परिक्षण विस्तारपूर्वक किया जाता है . 

प्रश्न 13 :- केंसर का उपचार कैसे होता है ?
       केंसर का मुख्यतः तीन प्रकार से उपचार किया जाता है . जिसमें सर्जरी रेडियो थेरेपी तथा कीमोथेरेपी प्रमुख है . इसके आलावा विभिन्न अन्य उपचार की भी जानकारी निम्नलिखित है .
(a)  सर्जरी :- सबसे पहले गांठ के अधिकतम हिस्से को जो कि केंसर ग्रस्त है उसे ओपरेशन करके निकाल दिया जाता है . ताकि वह और अधिक दूसरी कोशिकाओं को रोग् ग्रस्त ना कर सके . इसके बाद आगे का उपचार जिसे रेडियोथेरेपी या किमोथेरेपी दोनों या दोनों में से कोई एक दिया जाता है .
(b) रेडियोथेरेपी :- इस उपचार में कोबाल्ट मशीन के द्वारा निर्धारित किरणों को शरीर के अंदर केसर की कोशिकाओं तक पहुँचाया जाता है . इस प्रकार  केंसर के गांठ की कोशिकाओं को  नष्ट या निष्क्रिय किया जाता है . जिसे बोलचाल की भाषा में सिंकाई करना कहते हैं . जो चिकित्सक रेडियोथेरेपी के विशेषग्य होते हैं , वे निर्धारित करते हैं कि केंसर की सिकाई कब कब की जायेगी . आम तौर पर सप्ताह में दो या तीन दिन सिकाई की जाती है .  आजकल रेडियो थेरेपी की नई तकनीक भी आ गई है जिसे ब्रेक्की थेरेपी भी कहते हैं , जिसमे मरीज की केंसर कोशिका को सीधे अंदरूनी सिकाई की जाती है .इसके कारण आजकल मरीर को रेडियो थेरेपी से होने वाले प्रतिकूल प्रभाव बहुंत कम हो गए हैं .
(c)  लेसर थेरेपी :-  यह भी रेडियो थेरेपी का ही एक प्रकार है . इस थेरेपी में कसेर की गांठ को तथा मूल कोशिका को टारगेट करके उसको लेसर किरणों से नष्ट किया जाता है .
(d) कीमोथेरेपी:- इस थेरेपी में मरीज को मुँह से खाने वाली दवा या इन्जेक्शन के द्वारा दवाईयां दी जाती है . यह दवाईयां मरीज के केंसर कोशिका को अन्दुरुनी अंग में फैलने से रोकती हैं .कीमोथेरेपी में भी नई नई दवाईयां आजकल उपलब्ध है जिससे दवाईयों केप्रतिकूल प्रभाव काफी कम हो जाते हैं
(e)  इम्मुनोथेरेपी :- इस उपचार में मरीज को दवाईयां दी जाती है , जिससे उसके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ सके . यह बाकि अन्य थेरेपी के आलावा या साथ साथ भी दी जाती है .
(f)   हारमोन थेरेपी :- कुछ विशेष प्रकार के केंसर जैसे प्रोस्टेट केंसर तथा स्तन केंसर के मरीजों को हारमोन थेरेपी भी दी जाती है .
(g)  बोनमेरो ट्रांसप्लांट :- ब्लड केंसर जैसे लिम्फोब्लास्टिक लयूकेमिया नामक केंसर के मरीजों को बोनमेरो ट्रांसप्लांट भी किया जाता है . जिसमे हड्डियों की मज्जा को स्वस्थ डोनर से निकालकर मरीज को दिया जाता है .
(h) स्टेम सेल ट्रांसप्लांट :- यह भी एक उपचार की पद्धति है , जो फ़िलहाल हमारे देश में नहीं की जाती है .

प्रश्न 14 :- केंसर के उपचार के पश्चात क्या बाद में आगे बार बार जाँच होनी चाहिए या नहीं ?
 आवश्यक तौर पर मरीज को उसके केंसर का पूरा पूरा उपचार करवाने के बाद भी, निरंतर चिकित्सक के सम्पर्क में रहने की सलाह दी जाती है . मरीज का उपचार हो जाने के बाद भी उसे नियमित अन्तराल में चिकित्सक से मिलाकर अपनी आवश्यक जाँच करवाते रहना चाहिए , ताकि केंसर फिर से बढ़ने ना लग जाये . शुरुवात में चिकित्सक केंसर के पूर्ण उपचार हो जाने के बाद तीन माह में एक बार जाँच करवाने की सलाह देते हैं . धीरे धीरे यह अवधि बढ़ जाती है . फिर साल में एक बार ही चिकित्सक से मिलाकर जाँच करवाना जरुरी होता है .

प्रश्न 15 :- हमें कौन कौन सी सावधानी अपनानी चाहिए , ताकि केंसर की बीमारी से बच सकें ?
जी हाँ , “ बीमारी के उपचार से बेहतर है उससे बचाव “ जिसे चिकित्सक कहते हैं :- “ Prevention is better than cure.” इसलिए हह सावधानी अपनाने से केंसर से बचाव हो सकता है .
(1) नियमित दिनचर्या अपनाना बेहद आवश्यक है .समय पर भोजन करना, समय पर सो जाना , समय पर जागना जरुरी है . भोजन में संतुलित आहार लेना जरुरी है . अधिक मिर्च मसाले युक्त भोजन अधिक नहीं खाना चाहिए .भोजन में सलाद का भरपूर उपयोग किया जाना ज्यादा फायदे मंद होता है . फ़ास्ट फ़ूड तथा जंक फ़ूड को अधिक से अधिक खाने से बचना चाहिए . ताजे फल तथा हमारे आसपास उपलब्ध सभी प्रकार के फलों का धिक्त्क इस्तेमाल शरीर के लिए फायदेमंद होता है .
(2) नियमित शारीरक व्यायाम अत्यंत जरुरी कार्य है . प्रतिदिन कम से कम एक घंटे तेजचाल से चलने का व्यायाम सबसे सस्ता तथा सबसे अच्छा व्यायाम है . इसके आलावा यदि आप कोई खेल जैसे फुटबाल , बोलिबोल , साइकिलिंग , तैराकी या डांस वगैरह जो भी करें वह सब अच्छा ही है . कुल मिलाकर अपने शरीर के वजन को नियंत्रण में रखना आवश्यक हैं .यह सब कार्यों से हम ना केवल केंसर जैसी बीमारी से दूर रह सकते हैं बल्कि अनेक प्रकार की दूसरी बीमारियाँ जैसे ब्लड प्रेशर , डाइबीटीज, हार्ट डिसीज , किडनी डिसीज ,ब्रेन स्ट्रोक लीवर फेलुअर इत्यादि से भी निजात पा सकते हैं
(3) सभी प्रकार की नशीली वस्तुओं का इस्तेमाल करना तुरंत बंद कर देना ही बेहतर है . बीडी सिगरेट, तम्बाखू , गुड़ाखू, पानमसाले, पाऊच , शराब इत्यादि नुकसानदेय होते हैं .
(4) कुछ केंसर के बचाव के लिए आजकल टीकाकरण किया जाता है . जिसमे लड़कियों को गर्भाशय के केंसर से बचाव के लिए HPV नामक वेक्सिन लगाया जाता है . जो महिलाओं को होने वाले गर्भाशय के केंसर के लिए प्रतिरोधक क्षमता पैदा करने में सहायक होता है .
(5) इसके आलावा बच्चे के जन्म के पहले दस वर्ष की अवस्था तक विभिन्न प्रकार की बिमारियों से बचाव के लिए जो भी टीकाकरण किया जाता वह भी केंसर की बीमारी से बचाव के लिए सहायक होता है .   

अंत में स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन तथा मस्तिश्क होता है , तथा स्वस्थ शरीर देश को विकास के दिशा में उत्तरोत्तर आगे ले जाता है .

(आमजन में केंसर की घातक बीमारी के बारे में जागरूकता पैदा किये जाने हेतु संक्षेप में यह लेख लिखा गया है.)

Friday, December 13, 2019

राज्य के विश्वविद्यालयों में भर्ती एवं प्रवेश संबंधी दस्तावेजों की होगी जांच

राज्य के विश्वविद्यालयों में भर्ती एवं प्रवेश संबंधी दस्तावेजों की होगी जांच

सीबीआई ने उच्चशिक्षा विभाग को लिखा लेटर, पत्रकारिता विवि भी सवालों के घेरे में 

रायपुर। राज्य के  विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में बीते सालों में हुई भर्ती प्रक्रिया और प्रवेश प्रक्रिया में प्रस्तुत किए गए शैक्षणिक दस्तावेजों की जांच करने के निर्देश उच्च शिक्षा विभाग ने जारी किए हैं।इस आशय का पत्र विभाग ने सीबीआई द्वारा भेजे गए पत्र का संज्ञान लेेकर सभी विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों को जारी कर दिया है।

गौरतलब है कि  केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो ने उच्च शिक्षा विभाग छत्तीसगढ़ शासन को राज्य के सभी विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों में हुई शासकीय नियुक्ति की प्रक्रिया में नौकरी पाए लोगों के शैक्षणिक दस्तावेजों की जांच करने का पत्र भेजा है। सीबीआई के केस नं आरसी1202018ए0006एवं आसी0062018ए0017 की जांच में मध्यप्रदेश के ग्वालियर में  फर्जी माध्यमिक शिक्षा बोर्ड बोर्ड ऑफ सेकें डरी एजुकेशन मध्यभारत ग्वालियर के नाम से संचालित होना पाया गया.

 इस फर्जी माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा बड़ी संख्या में 10 वीं एवमं 12वीं के प्रमाणपत्र जारी किए गए जिनके आधार पर लोगोंं के सरकारी नियुक्तियां पाने की बात का जिक्र सीबीआई ने अपने पत्र में किया है। इस संदर्भ में राज्य के विश्वविद्यालयों को भी अपने यहां हुई शैक्षणिक व अशैक्षणिक नियुक्तियों एवमं प्रवेश प्रक्रिया में पेश किए गए दस्तावेजों की जांच करने के निर्देश सीबीआई ने उच्चशिक्षा विभाग को दिए हैं ताकि ऐसे लोगों पर तत्काल कार्रवाई की जा सके.


उच्च शिक्षा विभाग का सभी विश्वविद्यालयों को आदेश
इस पत्र का संज्ञान लेकर उच्च शिक्षा विभाग की ओर से राज्य के सभी विश्वविद्यालयों को अपने यहां हुई भर्ती एवम प्रवेश प्रक्रिया में लगाए गए शैक्षणिक दस्तावेजों की जांच के लिए निर्देशित कर दिया गया है। इस आशय का पत्र सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों, कुलसचिवों व महाविद्यालयों के प्राचार्योँ को जारी कर दिया गया है। गौरतलब है कि इस जांच से कई अन्य बड़े मामले भी सामने आ सकते हैं क्योंकि लंबे समय से प्रदेश के कई विश्वविद्यालयों में भी फर्जी दस्तावेजों के इस्तेमाल की बात सामने आ रही थी. 


फर्जी नियुक्तियों के मामले विचाराधीन- केटीयू स्थापना से लेकर अब तक विवादों में 
प्रदेश के कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवम जनसंचार विश्वविद्यालय की तो पूरी नियुक्तियों की प्रक्रिया ही सवालों के घेरे में है। फर्जी अनुभव प्रमाणपत्रों के आधार पर तो कहीं नौकरी के लिए अयोग्य उम्मीदवारों को योग्य उम्मीदवारों पर तरजीह दी गई। 

फर्जीवाड़ा कर पाया रीडर का पद, धारा 420 का मामला
विश्वविद्यालय में कार्यरत एक वरिष्ठ प्राध्यापक जो रीडर के पद पर कार्यरत हैं, पर धारा 420 जैसे मामले दर्ज होने के बावजूद अब तक कोई संज्ञान नहीं लिया गया है। इस संबंध में लोकायुक्त की रिपोर्ट में भी नियुक्ति प्रक्रिया को गलत बताते हुए इस पर कार्रवाई करने की बात कही गई थी लेकिन तत्कालीन सरकार द्वारा इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन पर फर्जी अनुभव प्रमाणपत्र के आधार पर नियुक्ति पाने व एक ही समय में कार्यानुभव और पत्रकारिता की पढ़ाई करने क े दस्तावेज प्रस्तुत करने के आरोप हैं।  ऐसे में अब वर्तमान सरकार से इस पर संज्ञान लेकर कड़ी कारवाई करने की आशा की जा रही है लेकिन अभी तक कोई भी ठोस कार्रवाई फर्जीवाड़े की शिकायतों पर नहीं की गई है।

विवि में दस्तावेजों की जांच भी सवालों के घेरे में 

अन्य राज्यों में प्रवेश या सरकारी भर्ती के दौरान प्रस्तुत किए गए शैक्षणिक दस्तावेजों की जांच संबंधित संस्थानों से सत्यापन कराए जाने का प्रावधान है लेकिन राज्य के विश्वविद्यालयों में इसका कितना  पालन किया जाता है ये संदेह के घेरे में है। सूत्रों के मुताबिक पत्रकारिता विश्वविद्यालय में बिना माइग्रेशन जमा कराए ही डिग्री निर्गत कर दिए जाने की बात भी सामने आई है। लेकिन इस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

Saturday, November 2, 2019

ओबीसी समाज के सम्मेलन में 10 प्रस्ताव हुए पारित

ओबीसी समाज के सम्मेलन में 10 प्रस्ताव हुए पारित

(ब्राह्मण के द्वारा कर्मकांड कराने से किया इंकार)


रायपुर। 
 ओबीसी समाज द्वारा ओबीसी महासभा के इस बड़े बैठक में ब्राह्मण समुदाय द्वारा ओबीसी समाज के लिए दिए गए आरक्षण के विरोध में हाईकोर्ट जाने और आरक्षण कम करवाने के विरोध में रोष जताया गया।
ओबीसी महासभा छत्तीसगढ़ के तत्वावधान में टिकरापारा स्थित साहू छात्रावास में ओबीसी समाज के सेमिनार का आयोजन किया गया। इसमें पिछड़ी जातियों को जनसंख्या के आधार पर शिक्षा, नौकरी, व्यवसाय, राजनीति और पदोन्नति में आरक्षण का लाभ देने पर चर्चा की गई। सम्मेलन में 10 प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किए गए।
सेमिनार में मुख्य अतिथि प्रदेश साहू समाज के अध्यक्ष अर्जुन हिरवानी एवं अध्यक्षता सीए विष्णु बघेल ने की। विशेष अतिथि चंद्राकर कुर्मी समाज के प्रदेश अध्यक्ष अश्विनी चंद्राकर, कात्यायनी देवी वर्मा, तेज बहादुर बंछोर, अनिल कुमार देवांगन अध्यक्ष ओबीसी महासभा शगुन लाल वर्मा, संयोजक कमलेश साहू ने विचार व्यक्त किया।
ये प्रस्ताव हुए पारित

1ओबीसी जनसंख्या के आधार पर 5% आरक्षण की मांग
2 मंडल कमीशन आंदोलन में एससी वर्ग दिए गए सहयोग के लिए धन्यवाद
3ओबीसी महासभा एसटीएससी माइनॉरिटी के साथ मिलकर सभी आंदोलन में सहयोग करेगा
4 ओबीसी महासभा ने ओबीसी समाज के लिए 27% आरक्षण दिए जाने पर मुख्यमंत्री का आभार जताया
5 ओबीसी समाज के लोग एससी, एसटी को अपना भाई मानते हुए उनको जातिगत अपमानित नहीं करेंगे
6 ओबीसी क्रीमीलेयर का दायरा को पूर्णतः हटाया जाए
7 सवर्ण वर्ग द्वारा ओबीसी के अधिकार का हनन करना बंद करें अन्यथा शिक्षा, नौकरी, व्यवसाय, राजनीतिक, धर्म, मठ-मंदिरों में पिछड़ा वर्ग सवर्ण के प्रति असहयोग आंदोलन करने पर मजबूर होगा
8  पिछड़ा वर्ग कर्मकांड में शिक्षित वर्ग द्वारा वैदिक मंत्रोधाार के माध्यम से संपन्न कराएं। ब्राह्मण की अनिवार्यता को समाप्त करें।
9ओबीसी समाज के महापुरुषों के साहित्य के साथ-साथ महात्मा फुले, पेरियार और अंबेडकर साहित्य का अध्यापन कराए
10  82 प्रतिशत आरक्षण को 3% की बढ़ोतरी करके 85% और एससी को 16% आरक्षण दिया जाए।

Friday, November 1, 2019

dmaindia online | सुदर्शन समाज क्या है ? what is sudarshan samaj, domar cast analysis.

इस लिंक में क्लिक करके आप वीडियो को देख सकते हैं सुदर्शन समाज के बारे में
https://youtu.be/DuKj_F53exw

#sudarshan_samaj #domar_cast #dalit #सुदर्शन_समाज #सुपच_सुदर्शन_ॠषि
सुदर्शन समाज की शुरूआत 1941 के बाद हुई ऐसी जानकारी मिलती है। स्व रामसिंग खरे जो डोमार जाति के थे, ने सर्वप्रथम सुदर्शन सेवा समाज की स्थापना पंश्चिम बंगाल के खडगपुर में की। स्व रामसिंग खरे के सहयोगी थे स्व भीमसेन मंझारे, स्व लालुदयाल कन्हैया, स्व रामलाल शुक्ला, स्व पन्ना लाल व्यास। यहां सुदर्शन सेवा समाज की ओर से एक स्कूल भी चलाया जा रहा था। बाद में मध्यप्रदेश के बिलासपुर (अब छत्तीसगढ.) में करबला नामक स्थान में एक सुदर्शन आश्रम की स्थापना उन्होने ने की। आज यहां पर एक बडा सुदर्शन समाज भवन नगर निगम की मदद से बनवाया गया है। इस बीच सुदर्शन समाज का सम्मेलन कानपुर, खडगपुर, नागपुर, जबलपुर एवं बिलासपुर में आयोजित किया गया। रामसिंग खरे मूलत: हमीरपुर बांदा के रहने वाले थे। वे खडगपुर में निवास करते थे लेकिन पूरे जीवन भर सुदर्शन ऋषि के नाम पर समाज को जोङने के लिए पूरे देश में दौरा किया करते थे। इसके पहले डोमार जाति सुदर्शन या सुपच ऋषि से परिचित नही थी।

Thursday, October 17, 2019

Reservations should be review?

क्या आरक्षण की समीक्षा होनी चाहिए
आरक्षण पर दलितों में दो फाड़
संजीव खुदशाह 
आर एस एस समेत दलितों का कुछ तबका मांग कर रहा है कि आरक्षण की समीक्षा होनी चाहिए। इस मुद्दे को दूर से देखने पर मामला एक जैसा लगता है लेकिन आर एस एस और दलितों की आरक्षण समीक्षा मांग में बुनियादी फर्क है। और उसके मायने भी अलग-अलग है। आइये सबसे पहले इस फर्क की पड़ताल करते है। 

आर एस एस प्रमुख मोहन मागवत जब यह कहते है कि अब आरक्षण की समीक्षा होनी चाहिए तो वे बिहार वि़धान सभा चुनाव बुरी तरह हार जाते है। इससे आप अंदाजा लगा सकते है कि यह मामला कितना संवेदन शील है। जैसा की आर एस एस की हिन्दू  राष्ट्र को लेकर अवधारणा है वह यह चाहता है कि आरक्षण की समीक्षा की जाय इसके क्या मायने है वह इस एक तीर से कई निशाने लगाना चाहते है। 

1 अपने सवर्ण वोटरों को (जो आरक्षण विरोधी है) उन्हे  खुश करना। 
2 आरक्षण समीक्षा के बहाने आरक्षित वर्ग (एस सी एस अी ओ बी सी) को छेड़ना ताकी वे आरक्षण को स्थाई अधिकार न माने। 
3 आरक्षण समीक्षा के आधार पर उसकी प्रासंगिकता को खत्म (कम) आकां जा सके। 
4 आरक्षण समीक्षा के आधार पर कुछ जातियों को आरक्षण की परिधी से बाहर किय जाये। उनके प्रतिशत में कमी किया जा सके। 
5 असल मकसद आरक्षण को खत्म किया जाय। 

इसके इतर कतिपय दलित जातिया या उनके नेता यह मांग करते रहे है कि आराक्षण की समीक्षा होनी चाहिए। वे तर्क देते है कि आरक्षण पर डॉं अंबेडकर का मकसद रहा है कि समाज के सबसे अंतिम व्यक्ति को आरक्षण का लाभ मिल सके। वे कहते है कि इसकी समीक्षा होनी चाहिए ताकि पता चल सके की आरक्षण का लाभ किन जातियों को मिल रहा है। 

हांलाकि ऐसा कोई आकड़ा उपलब्धं नही है जिससे ये बताया जा सके की आरक्षण का लाभ किन जातियों को कितना मिला है। लेकिन वे कतिपय दलित जातियां यह मानती है की आरक्षण की पूरी मलाई कुछ जातियां ही उठा रही है जैसे महाराष्ट्र में महार, उत्तर भारत में जाटव चमार अहिरवार, मध्य  भारत में सतनामी आदि। बांकि दूसरी जातियों को इसका लाभ नही मिल पा रहा है। आप इसी प्रकार राज्यवार भी दलित जातियों को चुन सकते है। जिन्हे यह माना जाता रहा है कि वे आरक्षण का पूरा लाभ लेती है बाकि छोटी या अल्प संख्यक या अतिदलित जातियों को इनके कारण आरक्षण का लाभ नही मिल पा रहा है। 

यहां पर यह बताना जरूरी है कि इसी प्रकार दिल्ली  समेत उत्तर भारत में वाल्मीकि जातियां भी आरक्षण लाभ लेने में अन्य दलित जातियों से काफी आगे है। वाल्मीकि जाति से तात्पर्य चूहड़ा जाति से है, जो लालबेगी कहलाती थी बाद में हिन्दूकरण के दौरान वाल्मीकि कहलाई। इनका प्रतिशत देशभर के सफाई कामगारों का 5 प्रतिशत है। ऐसी करीब 40 जातियां देश भर में परंपरागत सफाई पेशे से जुड़ी हुई है। सफाई कामगार जातियों का एक समूह यह चाहता है कि उन्हे यानी सफाई कामगारों को अलग से आरक्षण दिया जाय। 

असल झगड़ा क्या है?

आर एस एस के आरक्षण समीक्षा का असल मकसद आप जान चुके है। अब जानने की कोशिश करते है कि कतिपय जातियां ऐसी मांग क्यों कर रही है। यह मामला इतना सीधा नही जितना लगता है। ऐसी मांग करने वाले लोग दलितों में दो फाड़ करना चाहते है। वे चाहते है कि चमार दलित और सफाई कामगार दलित को अलग-अलग आरक्षण दिया जाय। ताकि इसका लाभ सफाई कामगारों को भी मिल सके।(यह एक ऐसा मांग है जो आर एस एस के ऐजेण्डेल में भी है।) दरअसल पूरे दलितों को दो भागो में विभाजित करके देखा जा रहा है। पहला चमार वर्ग दूसरा सफाई कामगार वर्ग । वे मानते है कि इसके इतर कोई दलित जाति नही होती है। यह एक गलत सोच है। चमार और सफाई कामगार जातियों के अलावा भी दलित जातियों की भरमार है जैसे धोबी, ढोल बजाने वाली जाति, ढोल बनाने वाली जाति, मृतक को अग्नी देने वाली जाति, बांस का काम करने वाली जाति, घास काटने वाल जाति, मुसवा(चूहा) ,खाने वाली जाति मुसहर आदि आदि। आरक्षण का ये झगड़ा असल में जातिगत झगड़ा ही है।

 क्या  सचमुच एक ही जाति पूरा आरक्षण का लाभ ले रही है?

ऐसा भ्रामक प्रचार हिन्‍दू कट्टर वादी संगठन करते रहे है। यदि ऐसा होता तो आजतक बैकलाग खाली क्यो  रहते? क्यो‍ दलित जाति की सीटे खाली रह जाती? बाद में योग्य, उम्मीदवार नही है कहकर सवर्णो से भर दी जा‍ती। 

यदि दलित आरक्षण के दो फाड़ हो जाये तो क्या इसकी गुन्जाईश नही है कि इसके जातिवार 25 फाड़ हो जायेगे। मान लिया जाय अरक्षण के लिए दलितों में दो फाड़ कर दिया जाता जैसा की कतिपय दलित जातियां चाहती है चमार वर्ग सफाई कामगार वर्ग। सफाई कामगार वर्ग में सिर्फ एक जाति है जो की आरक्षण, शिक्षा से लेकर सभी निकायों में काफी तरक्की पर है वह है वाल्मीकि जाति। सफाई कामगार वर्ग के लिए अलग आरक्षण मिल जाने पर (जिसमें लगभग 40 अन्ये जातियां भी शामिल है) यही जाति पूरा लाभ उठायेगी। सुदर्शन समाज, नवल समाज गोगापीर, डोम डुमार, मखियार हेला जैसी तमाम जातियों को इसका लाभ नही मिल पायेगा। समस्या जस की तस रहेगी। इन्हे भी जातिवार आरक्षण देना पड़ेगा। इस तरह के आरक्षण बटवारे का कोई अंत नही है। 

सुप्रीम कोर्ट में ओपी शुक्ला के द्वारा ऐसा वाद दाखिल किया गया था। जिसे सुनवाई पश्चात खारिज कर दिया गया। जैसा की कुछ लोगो के द्वारा अलग आरक्षण की मांग की जा रही है उससे लगता है की इसका अंत नही होने वाला। प्रश्न खड़ा होता है कि क्या अलग आारक्षण लेने वाली अगड़ी जातियां अपने से कमजोर और अल्पसंख्यक जाति को उसका अधिकार देगी अथवा सुदर्शन समाज जैसी जातियों को भी इसके इतर आरक्षण हेतु अवाज उठाना पड़ेगा। इस का सबसे बुरा प्रभाव दलितों की एकता पर पड़ेगा जिसको मिल बैठकर सुलझाया जाना चाहिए।

Thursday, August 29, 2019

State Conference of Campaign Against Daman

दमन के खिलाफ अभियान का राज्य सम्मलेन

28 अगस्त 2019 को छत्तीसगढ़ के विभिन्न नागरिक समाजिक और मानवाधिकार मज़दूर व महिला और जन संगठनों द्वारा गास मेमोरियल, जैस्ताम्भ, रायपुर में ‘दमन के खिलाफ अभियान’ सम्मलेन रखा गया | दमन के खिलाफ अभियान जनता, जल, जंगल, जमीन व जन आन्दोलनों पर बढ़ते दमन के खिलाफ आवाज़ उठाता है |


२८ अगस्त को भीमा कोरेगाँव केस में फ़र्ज़ी आरोपों पर वक़ील लेखक व सामाजिक कार्यकर्ताओं को गिरफ़्तार किए गए एक साल हो गए हैं। इन ग़ैर क़ानूनी गिरफ़्तारियों के ख़िलाफ़ और साथियों  रिहाई के लिए यह कार्यक्रम किया गया।

पिछले कुछ सालों में देश में बढ़ते मानवाधिकार हनन, नफरत के माहौल, अभिव्यक्ति के अधिकारों पर बढ़ते दबाव के विरोध में यह सम्मलेन रखा गया| सरकार और उसकी नीतियों की आलोचना करने वाले किसी भी व्यक्ति या संस्थाओं या संगठनों को देश द्रोही घोषित कर दिया जा रहा है और राजकीय संस्थाओं जैसे पुलिस, जांच एजेंसी, गृह मंत्रालय द्वारा उनको दबाया जा रहा है| ठीक एक साल पहले 28 अगस्त 2019 को इस राजकीय दमन की एक मिसाल कामरेड सुधा भारद्वाज, वर्नन गोंजलवेज, वर वरा राव, अरुण फेरेरा की और उससे पहले 6 जून को प्रफ़ेसर शोमा सेन, महेश राउत, अधिवक्ता सुरेन्द्र गैडलिंग, सुधीर धवले और रोना विल्सन की गिरफ्तारियों में देखी गयी|

वर्तमान भाजपा सरकार द्वारा इन वर्षों में संविधान से छेड़छाड़ करके कई गैर कानूनी बदलाव किये जा रहे है जो संवैधानिक, मानवाधिकार और लोकतांत्रिक सिधान्तों और अधिकारों को कुचलते है |

कार्यक्रम में वक्ता विमल भाई द्वारा कश्मीर में अनुच्छेद 370 खारिज करने के बाद कश्मीर में आर्मी की स्थिति और कश्मीरियों के दर्द और गुस्सों को बयान किया गया| अधिवक्ता रजनी सोरेन द्वारा बताया गया की एन.आई.ए एक्ट और यू.ए.पी.ए. एक्ट में संशोधन न्याय के नैसर्गिक मूल्यों के खिलाफ है और सरकार को असीम शक्तियां देता है| अधिवक्ता बेला भाटिया ने नेशनल सिटीजन रजिस्टर से असम में लोगों को हो रही मुश्किलों के बारे में बताया और नागरिक संशोधन अधिनियम के खतरों को साझा किया| सरकार के ये कदम और देश में अल्पसंख्यकों पर बढ़ते हमले, भाजपा और आर.एस.एस. की मुस्लिम विरोधी मानसिकता को दर्शाता है | वही SC/ST कानून में संशोधनों की कोशिशें और दलितों पर बढ़ते हमले जातीवाद और मनुवाद की जड़ो को मजबूत करते है|

गुरु घासीदास सेवा संघ के लाखन सुबोध ने बताया कि यह नीतियाँ भारत को हिन्दुत्ववादी फासीवादी देश बनाने की ओर बढ़ाता है|
माकपा के धरमराज माहापात्रा द्वारा श्राम कानून में किये गए बदलावों का विरोध किया गया जो नव उदीराकरण के दौर से जारी है |
बिलासपुर उच्च न्यायालय कि अधिवक्ता कांता मराठे जी, दलित आदिवासी मंच सोनाख़ान  देवेंद्र जी और धरमजयगढ़ के सज्जल जी ने आदिवासी अधिकारों पे बात राखी जिसमें वनाधिकार कानून और इंडियन फारेस्ट एक्ट में किये जा रहे संशोधनों और सुप्रीम कोर्ट द्वारा आदिवासीयों को उनके स्थान से निकालने का विरोध किया गया | ऐसे निर्णय और संशोधन आदिवासियों को अपने ही जमीन और संसाधन से बेदखल करके उन्हें और हाशियाकृत करते है | उन्ही के जमीन पर बड़े कॉर्पोरेट घराने और कारखाने सरकार से दलाली स्थापित कर रहे है | छत्तीसगढ़ जैसे राज्य में, ऐसे संशोधन व बदलाव के चलते यहाँ की जल जंगल और खनिज सम्पदा  के साथ साथ यहाँ के दलित, आदिवासी व अल्पसंख्यक जनता के जीवन को भी ख़तरा है । इस बात को ज़ोर देते हुए मकपा के संजय पराते और ज़िला किसान संघ राजनांदगाँव  सुदेश टिकम ने  सत्र का समेकन किया।

कार्यक्रम में अन्य वक्ता और भागीदारी देने कोमरेड नीरा डहरिया दिनेश सतनाम नंदकश्यप आनंद मिश्रा जनक लाल ठाकुर रिनचिन भीमराव बागडे बनसी साहू लखन साहू कलदास डहरिय नकुल साहू चुन्नी साहू संगीता साहू बाबूलाल वर्मा बिशनु यादव सावित्री साहू राजकुमार साहू कल्याण सिंह पटेल अखिलेश एड्गर सादिक़ अली तुहिन देव राजकुमार सोनी, सोरा यादव उर्मिला साहू राजेंद्र सायाल गौतम बंदोपाध्याय सुरेन्द्र मोहंती आलोक शुक्ला विजय भाई एम डी सतनाम कमल शुक्ला ए पी जोसी श्रेया उपस्थित थे |

सरकार के इन कदमों की मार सबसे ज्यादा मुस्लिम, आदिवासी, दलित तबके और उनके अधिकारों पे काम करने वाले लोगों पर पड़ रही है|

कार्यक्रम में रेला सांस्कृतिक समूह द्वारा प्रस्तुति दी गयी|  कार्यक्रम में विभिनान सामाजिक संगठनों से 200-250 लोग आये और अपना विरोध जताए | अंत में बूढा तालाब से सप्रे स्कूल तक रैली निकाल के शासन को सांकेतिक गिरफ्तारियां दी गयी |

उपस्थित जन संगठनों ने प्रस्ताव पारित किया कि -
1. कामरेड सुधा भारद्वाज और अन्य साथियों की अविलंब रिहाई हो
2. भीमा कोरेगाँव कांड में असली गुनहगारों - संभाजी भिड़े एवं मिलिंद एकबोटे - को तुरंत गिरफ़्तार कर न्यायिक प्रक्रिया चलायी जाय।
3. यू॰ए॰पी॰ए॰ क़ानून में हुए संशोधन एवं अन्य दमनकारी क़ानून जो जनता के मौलिक अधिकारों का हनन करते हो को तत्काल प्रभाव से वापिस लिया जाय।
4. छत्तीसगढ़ की जेलों में बंद वामपंथी उग्रवाद के झूटे आरोपों के तहत बंदी निरपराध आदिवासियों को शीघ्र रिहा किया जावे।
5. देश भर में बढ़ते भीषण साम्प्रदायिक हिंसा जिसमें मॉब लिंचिंग भी शामिल है जोकि मुख्यतः मुसलमानों एवं ईसाइयों के ख़िलाफ़ हो रहा है पर सरकार अविलंब रोक लगाएँ।
6. जम्मू कश्मीर में धारा 370 की पूर्ववत बहाली हो तथा नागरिकों के लिए समस्त संवैधानिक अधिकार तुरंत प्रदान किया जावे। वहाँ फ़ौजी दमन बंद हो तथा शांति व समानता के आधार पर जनता से बातचीत की शुरुआत हो।
7. मोदी सरकार द्वारा कोरपोरेटो के हित में किए गए श्रम क़ानूनों में सुधार बंद हो तथा श्रमिकों के समस्त ट्रेड यूनियन अधिकारों की बहाली हो।
8. देश में दलितों के ख़िलाफ़ बढ़ते भेदभाव, मनुवाद से प्रेरित जातिगत दमन व हिंसा पर रोक लगे। अनुसूचित जाति-जनजाति अत्याचार निवारण क़ानून में संशोधन करने से केंद्र सरकार बाज़ आए।
9. वन अधिकार क़ानून 2006 एवं पेसा क़ानून का क्रियान्वयन केंद्र सरकार सुनिश्चहित करें। वन अधिकार क़ानून  संशोधन के ज़रिए लाखों आदिवासियों को वन भूमि से बेदख़ल करने पर तुरंत रोक लगे।
10. अंत में सदन ने सर्वसम्मति से केंद्र सरकार के गैर संवैधानिक और गैर लोकतांत्रिक कदमों और दमन की नीतियों के खिलाफ अपनी लड़ाई और संघर्ष को मजबूत करने का संकल्प लिया।

दमन के ख़िलाफ़ आयोजन समिति

*संपर्क*:
डॉ. लाखन सिंह - 07773060946
रिनचिन - 09516664520
एड. ए. पी. जोसी - 09993440496
एड. सादिक अली  - 09425515411