Contact Us

ORGANIZATIONAL PROFILE OF DALIT MOVEMENT ASSOCIATION

Name of the Organization: Dalit Movement Association
Address: Tatiband, Raipur (C.G.) Pin- 492099
E-mail: : contact.dmaindia@gmail.com

Registration : : Registered in 2011 under Society Registration Act 1973 Sub clause No-44

11 comments:

  1. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  2. SC/ST/OBC brothers/Sisters must spread http://atrocitynews.com/ ,http://upliftthem.blogspot.in/ ,http://drambedkarbooks.wordpress.com/about-me/to know SHOCKING,UNBELIEVABLE,UNEXPOSED AND PURPOSEFULLY HIDDEN BRUTAL TRUTH about present situation of SC/ST/OBCs IN INDIAspread these websites to 125 crore Indians!!! Spread it!!!

    ReplyDelete
  3. i want to know the founder of this website... i m Dr. Kuldip from JNU..kuldip223@gmai.com

    ReplyDelete
  4. It will be better if the web site/ Blogspot name changed to " Mulnivasi- Movement- Association".
    It will help to all our Mulnivasi (OBC,SC ,ST & Minorities)..
    JaiMulnivasi

    ReplyDelete
  5. The web page /blog name should be changed to "Mulnivasi -Movement-Association."

    ReplyDelete
  6. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  7. Dear Shri Sanjeev Saheb , sorry for late reply...
    I am V.K. Mulnivasi from Haridwar (Uttarakhand).


    Very Very thanks for the work being done by people like you for the Mulnivasi people.
    It is my humble request to kindly upload my personal view on the increasing debate on " Economic Based Reservation" : as below:

    The thought of “Reservation based on economic ground” is just a conspiracy by upper caste people. In case it is got implemented, no one from SC/ST/OBC will be able to manage his/her income certificate from the govt. agencies because these agencies will be from upper caste people only. Only upper caste peoples will be able to manage fake certificates by any ways and will consume 100% reservation because SC/ST/OBC can not fight in courts where 99% are from upper caste. For example there is 100% reservation for brahamins in Temples who are getting generally greater than 2 lakhs per months from public donations in temples, they all will make “poor certificates” because there is no proof of their income in temples and will get reservation. Hence, finally SC/ST/OBC will be SHUDRAs of MANU ( Brahaminical root). And MANU will smile again.
    It is my request to all mulnivasi,please do not allow such bullshit ideas on reservation. This was the way for representation of untouchables in India and was agreed by British when India got freedom as subject to this caste reservation.
    Caste based reservation should be continue always until , every one is equal w.r.t. caste i.e. when there will not be any caste in India i.e. when all people will remove their Surname i.e. Bhagwat/Gandhi/Diwedi/Tripathi/Joshi/Agrawal/Kejriwal/Sharma/Verma/Singh/etc. etc. etc. Only after after caste free India, such ideas may be allowed.

    Thanking you a lot,

    with warm regards,
    V.K.Mulnivasi.

    ReplyDelete
  8. The thought of “Reservation based on economic ground” is just a conspiracy by upper caste people. In case it is implemented, no one from SC/ST/OBC will be able to manage his/her income certificate from the govt. agencies because these agencies will be from upper caste people only. Only upper caste peoples will be able to manage fake certificates by any ways and will consume 100@ reservation because SC.ST/OBC can not fight in courts where 99% are from upper caste. For example there is 100% reservation for brahamins in Temples who are getting generally greater than 2 lakhs per months from public donations in temples, they all will make “poor certificates” because there is no proof of their income in temples. Hence, finally SC/ST/OBC will be SHUDRAs of MANU ( Brahaminical root). Aand MANU will smile again.
    Do not allow such bullshit ideas for reservation. This was the way for representation of untouchables in India and was agreed by British when India got freedom as subject to this caste reservation.
    Caste based reservation should be continue always until , every one is equal w.r.t. caste i.e. when there will not be any caste in India i.e. when all people will remove their Surname i.e. Bhagwat/Gandhi/Diwedi/Tripathi/Joshi/Agrawal/Kejriwal/Sharma/Verma/Singh/etc. etc. etc.

    ReplyDelete
  9. Skand Puran, the story available at website ………………………
    EXECUTION OF SHUMBH, NISHUMBH & MAHISHASUR
    Demons ( Asurs) by Hindu mythology:
    1.) Mahishasur: the king of Purliya Distt.of West Bengal & Mysore (Karnatka) ( todays Yadav caste),
    2.) Prachanda: the king of upper Himalya (Nepal) ( today Maoist),
    3.) Chamar: The king of Asur (Shiva) North India ( Today Dalit),
    4.) Mahahanu:शिव। (. तक्षक जाति का एक प्रकार का साँप), Shiva’s people/follower,
    5.) Dahan: The demon of Sambalpur distt. Haryana( Today’s Jat ),
    6.) Vikataksha: Chief of the Asuras, in the reign of king Bali.Non-Aryans, (Today non-Brahamins)
    7.) Mahamauli: Barbarian ( outsider of the Aryavarta),Non-Aryans Today Non-Brahamins
    8.) Shumbh and Nishumbh: The kings of Vindyachal mountain in Madhya Predesh ( todays Dalit & backwords in Vindhyachal distt)
    The demons named Shumbh and Nishumbh had received boons from Brahma according to which no deity, demon or Man could kill him. Shumbh and Nishumbh became excessively arrogant and started tormenting the deities. All the deities including Lord Vishnu went to Lord Shiva and requested for his help. Lord Shiva assured them that both the demons would be killed at the opportune time. The deities were satisfied and returned back to their respective abodes. Parvati was of dark complexion. She thought that Shiva would be more affectionate towards her if she somehow discarded her dark skin. She eventually discarded her dark skin at a place and it instantly got transformed into 'Kali Kaushiki'. She then did an austere penance at Vindhyachal mountain. At that time, Shumbh and Nishumbh lived there. When both the demons saw goddess Kali Kaushiki her divine beauty infatuated them. But Goddess Kali Kaushiki ultimately killed both of them.
    Mahishasur--the demon sent a female messenger to convince Parvati into marrying him. The female messenger disguised herself as a female hermit and tried to impress all the three goddess who were keeping surveillance by praising the glory of Mahishasur--
    Goddess Chamunda (Durga) severed the heads of 'Chand' and 'Mund' with her chakra. Mahishasur was enraged and he attacked goddess Durga. Some other demons like Prachanda, Chamar, Mahamauli, Mahahanu, Ugravaktra, Vikataksha and Dahan also came forward to help him but each one of them was killed by goddess Durga. Now, Mahishasur's anger crossed all limits and he menacingly ran towards goddess Durga. A severe battle was fought between both of them. When Mahishasur realized that the goddess was dominating the battle, he started changing his guises frequently. He tried to dodge goddess Durga by transforming his appearance into that of a boar. But, goddess Durga kept on chasing him. Then, Mahishasur became a lion. This way he kept on changing his appearances frequently to avoid getting killed by goddess Durga. Once he transformed himself into a buffalo but goddess Durga attacked him.
    This way, Mahishasur was forced to change his appearance frequently on account of relentless attack by goddess Durga. Ultimately Durga killed him. Goddess Durga picked up his severed head and danced in joy. The deities were relieved at the death of Mahishasur.
    Ref.:- http://www.bharatadesam.com/spiritual/skanda_purana.php

    ReplyDelete
  10. हरियाणा में हो रहे दलित और स्त्री उत्पीड़न के खि़लाफ़ आवाज़ उठाओ!

    इंसाफ़पसन्द नौजवान साथियो!
    अभी इस बात को ज़्यादा समय नहीं हुआ है जब हरियाणा में लगातार एक दर्जन से भी अध्कि बलात्कार और स्त्री उत्पीड़न की घटनाएँ सामने आयी थी। एक बार फिर से मानवता को शर्मसार करने वाला मामला सामने आया है। 23 मार्च को घटी यह घटना हिसार के भगाना गाँव की है जहाँ सवर्ण जाति के युवकों ने चार दलित लड़कियों के साथ सामूहिक बलात्कार किया। पाँच अभियुक्त गिरफ्ऱतार हो चुके हैं किन्तु पीडि़त, दोषियों को कड़ी सजा दिलाने तथा अपने पुनर्वास व मुआवजे को लेकर अभी तक संघर्षरत हैं। यह वही भगाना गाँव है जिसके करीब 80 दलित परिवार समाज के ठेकेदारों की मनमानी और बहिष्कार के कारण निर्वासन झेल रहे हैं। दलित उत्पीड़न के पूरे सामाजिक और आर्थिक शोषण-उत्पीड़न में मुख्य भूमिका निभाने वाली खाप पंचायत ही है जो सामन्ती अवशेषों और सड़े मुध्ययुगीन रीति-रिवाजों का प्रतिनिधित्व करते हैं। साथ ही पूँजीवादी चुनावी पार्टियाँ वोटबैंक बटोरने के लिए खाप पंचायत का इस्तेमाल करती है। तभी कोई भी चुनावी पार्टी खाप पंचायतों से बैर नहीं लेती।
    दूसरा दलित उत्पीड़न के मामलों में क़ानून व्यवस्था और पुलिस प्रशासन का रवैया आमतौर पर दोयम दर्जे का ही होता है। उफँची जातियों की खाप पंचायतें और विभिन्न जातीय संगठन दलितों के प्रति लोगों के दिमागों में पैठी भेद-भावपूर्ण सोच को मजबूत करने का ही काम करते हैं, बदले में तमाम दलितवादी संगठन भी अपने चुनावी और संकीर्ण हितों के लिए मुद्दा ढूंढ लेते हैं। दोस्तो! आज यह वक्त की ज़रूरत है कि हम तमाम जातीय भेदों से उफपर उठें क्योंकि तभी हम शिक्षा, चिकित्सा, रोज़गार आदि जैसी अपनी बुनियादी जरूरतों के लिए लड़ सकते हैं और संगठित होकर ही उन्हें हासिल कर सकते हैं। तमाम चुनावी पार्टियों और जातीय संगठनों के झांसे में आये बिना मेहनतकश आवाम को वर्गीय आधार पर एकजुट होना होगा। समाज से भेद-भाव और जातीय उत्पीड़न के कूड़े को साफ़ कर देना होगा तथा जहाँ कहीं भी इस प्रकार की घटनाएँ नज़र आयें सभी न्यायप्रिय इंसानों को इनका पुरजोर विरोध करना चाहिए।
    हम देश के उन बहादुर, इंसाफ़पसन्द युवाओं और नागरिकों से मुख़ातिब हैं जो कैरियर बनाने की चूहा दौड़ में रीढ़विहीन केंचुए नहीं बने हैं, जिन्होंने अपने ज़मीर का सौदा नहीं किया हैऋ जो न्याय के पक्ष में खड़े होने का माद्दा रखते हैं। साथियो! हमें उठना ही होगा और तमाम तरह के दलित और स्त्री उत्पीड़न का पुरजोर विरोध करना होगा। सड़ी और मध्युगीन सोच को उसकी सही जगह इतिहास के कूड़ेदान में पहुँचा देना होगा।
    क्रान्तिकारी अभिवादन के साथ-

    भगतसिंह को याद करेगें! जुल्म नहीं बर्दाश्त करेगें!!
    By Palash Biswas
    Ref.:- http://www.bahujanindia.in

    ReplyDelete
  11. Dalit Girl , a Star Player from Haridwar.
    किसी भी सीएम ने नहीं दी नौकरी

    हाकी खिलाड़ी वंदना की वेदना, देश का नाम रोशन कर पहुंची घर
    योगेंद्र सिंह

    हरिद्वार। प्रदेश की शान और मान में चार चांद लगाने वाली रोशनाबाद निवासी भारतीय राष्ट्रीय हाकी टीम की खिलाड़ी वंदना कटारिया प्रदेश सरकार की उपेक्षा से बेहद दुखी हैं। हाल यह है कि ग्लास्गो से लौटने पर मंगलवार को हरिद्वार पहुंची इस इंटरनेशनल खिलाड़ी के स्वागत के लिए शासन और प्रशासन का कोई नुमाइंदा तक खड़ा नहीं हुआ। पूर्व मुख्यमंत्री, हरिद्वार सांसद रहे एवं वर्तमान मुख्यमंत्री ने प्रदेश में नौकरी देने का इनसे वादा भी किया था। लेकिन अभी तक वादे हवाई रहे।
    रोशनाबाद निवासी वंदना हाकी में अब तक देश को अंतरराष्टीय मैचों में तीन गोल्ड, तीन सिल्वर और चार ब्रोंज मेडल दिलवा चुकी हैं। नेशनल हाकी चैंपियनशिप में भी दो गोल्ड मेडल जीतकर प्रदेश का नाम रोशन किया। सप्ताह भर पहले ग्लासगो में हुए कामनवेल्थ गेम्स में भारतीय टीम ने कनाडा, टोबैगो और स्कॉटलैंड से जीत हासिल। देश को पांचवें स्थान पर संतोष करना पड़ा।
    टीम के ग्लास्गो से लौटने पर हरियाणा सरकार ने अपने खिलाड़ियों को पांच-पांच लाख रुपये नगद पुरस्कार दिया। मणिपुर सरकार ने भी अपने खिलाड़ियों को तीन-तीन लाख रुपये नगद दिए। लेकिन भारतीय टीम की फर्स्ट इलेवन में शामिल मिड फील्ड खिलाड़ी वंदना कटारिया को प्रदेश सरकार ने कोई सम्मान नहीं दिया। ग्लासगो से लौटने के बाद भी खबर नहीं ली। वंदना के कोच कृष्ण कुमार ने बताया कि वंदना के साथ यह अन्याय है।
    वंदना की अब तक की उपलब्धियां
    वंदना पहली बार वर्ष 2007 में इटली में आयोजित हाकी प्रतियोगिता में खेलने गई थी और रजत पदक जीता।
    वर्ष 2008 में मलेशिया में आयोजित एशिया कप में कांस्य पदक और वर्ष 2009 में रूस में फर्स्ट चैंपियंस चैलेंज प्रतियोगिता में स्वर्ण झटकने में कामयाबी पाई।
    वर्ष 2009 में सिडनी में हुई आस्ट्रेलियन यूथ ओलंपिक फेस्टीवल में कांस्य पदक देश की झोली में डाला।
    वर्ष 2012 में थाईलैंड (बैंकाक) में आयोजित एशिया कप में रजत और वर्ष 2013 में दिल्ली में वर्ल्ड लीग में स्वर्ण मिला।
    जर्मनी में आयोजित वर्ल्ड कप 2013 में कांस्य पर कब्जा किया। इसी साल मलेशिया में एशिया कप में कांस्य और जापान में एशियन चैलेंज ट्राफी में रजत हासिल किया।
    वर्ष 2014 में मलेशिया में आयोजित सिक्स्थ मैच टैस्ट सीरीज में स्वर्ण प्राप्त करने में सफलता प्राप्त की।
    दो-दो मुख्यमंत्रियों का वादा फिर भी प्रदेश में नौकरी नहीं
    नौकरी के लिए मुुुंबई में रहने को मजबूर हैं प्रदेश की शान
    नौकरी के वादे का क्या हुआ
    वंदना ने अमर उजाला को बताया कि जब वह जर्मनी से जीतकर आई थी तो तत्कालीन मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने प्रदेश पुलिस में नौकरी देने का वादा किया था। हरिद्वार से सांसद रहे हरीश रावत ने भी गांव में जाकर प्रदेश में नौकरी दिलवाने की बात परिजनों से कही थी। लेकिन किसी ने वादा नहीं निभाया। वंदना ने कहा कि वह अपने प्रदेश में नौकरी चाहती हैं। ताकि वह अपने परिवार की मदद कर सके। वह इस समय मुंबई में रेलवे में टीसी के पद पर कार्यरत हैं।
    घरवालों ने किया जोरदार स्वागत
    वंदना पांच अगस्त को ग्लासगो से मुंबई पहुंची। 12 अगस्त दोपहर एक बजे हरिद्वार रेलवे स्टेशन पर परिवार के लोग बिटिया को लेने पहुंचे। घर जाकर मां सोरण देवी, पिता नाहर सिंह के साथ भाई, भाभी, बहनों, भतीजे और भतीजियों ने वंदना का स्वागत किया। मां ने बेटी की आ

    ReplyDelete

We are waiting for your feedback.
ये सामग्री आपको कैसी लगी अपनी राय अवश्य देवे, धन्यवाद