मेरी Shri Lanka यात्रा Anuradhapuram thuparam stup Mahabodhi vriksha abhyaram stup Sanjeev khudshah

पिछले हफ्ते बुद्ध जयंती के अवसर मुझे श्रीलंका जाने का मौका मिला। यह यात्रा एक टूर कंपनी द्वारा आयोजित की गई थी। मेरे लिए यह यात्रा इसलिए महत्वपूर्ण थी क्योंकि सर्वप्रथम तो यह कि यह मेरी पहली विदेश यात्रा है, दूसरी बात यह है कि बौद्ध धर्म को मानने वाले, विभिन्न प्रदेशों से आए 40 अपने लोगों के साथ यह यात्रा थी। तीसरा मेरे लिए यह यात्रा इसलिए महत्वपूर्ण थी क्योंकि मुझे देश के बाहर श्रीलंका में कैसी जीवन चर्या है? लोग वहां कैसे रहते हैं? कैसा व्यवहार करते हैं? और बुद्ध धर्म का प्रचार वहां पर किस तरह से किया गया और वे बुद्ध धर्म को किस प्रकार से मानते हैं? ये सब जानना मेरे लिए किसी कौतूहल से कम न था ।

इस वीडियों को आप तीन भाग में देखेगें यहां देखिये पहला भाग संजीव खुदशाह

Kanshiram Rare Video, part 1, bahujan samaj party Vishnu Baghel DMAindia Online

 

सन 1995 में बहुजन समाज पार्टी का एक बड़ा आयोजन डॉ खूबचंद बघेल की पुण्यतिथि के अवसर रायपुर छत्तीसगढ़ में किया गया। इस कार्यक्रम का आयोजन तत्कालीन जिला अध्यक्ष बहुजन समाज पार्टी रायपुर के जाने-माने सामाजिक कार्यकर्ता विष्णु बघेल द्वारा किया गया। करीब 30 वर्ष पुराना यह दुर्लभ वीडियो आपके लिए पेश है जिसमें कांशीराम समेत तमाम दूसरे राष्ट्रीय स्तर के नेता अपनी बात रख रहे हैं। देखिए इस श्रृंखला का पहला भाग।


Mahatma Buddha, the pioneer of world peace

 

विश्व शांति के अग्रदूत महात्मा बुद्ध

रश्मि वर्मा

विश्व में कुछ ऐसे महापुरुष रहे हैं जिन्होंने अपने जीवन से समस्त मानव जाति को एक नई राह दिखाई है। उन्हीं में से एक महान विभूति गौतम बुद्ध थे, जिन्हें महात्मा बुद्ध के नाम से जाना जाता है। दुनिया को अपने विचारों से नया मार्ग दिखाने वाले महात्मा बुद्ध भारत के एक महान दार्शनिक, समाज सुधारक और बौद्ध धर्म के संस्थापक थे। भारतीय वैदिक परंपरा में धीरे-धीरे जो कुरीतियाँ 

bhagvan buddhaपनप गईं थी, उन्हें पहली बार ठोस चुनौती महात्मा बुद्ध ने ही दी थी। बुद्ध ने वैदिक परंपरा के कर्मकांडों पर कड़ी चोट की । मध्यकाल में कबीर दास जैसे क्रांतिकारी विचारक पर महात्मा बुद्ध के विचारों का गहरा प्रभाव दिखता है। डॉ अंबेडकर ने भी वर्ष 1956 में अपनी मृत्यु से कुछ समय पहले बौद्ध धर्म अपना लिया था और तर्कों के आधार पर स्पष्ट किया था कि क्यों उन्हें महात्मा बुद्ध शेष धर्म-प्रवर्तकों की तुलना में ज़्यादा लोकतांत्रिक नज़र आते हैं। आधुनिक काल में राहुल सांकृत्यायन जैसे वामपंथी साहित्यकार ने भी बुद्ध से प्रभावित होकर जीवन का लंबा समय बुद्ध को पढ़ने में व्यतीत किया। इस आलेख में बुद्ध के जीवन वृत्तांत, उनके दर्शन के सकारात्मक व नकारात्मक पहलूओं तथा बुद्ध की शिक्षाओं की प्रासंगिकता पर विमर्श किया जाएगा। महात्मा बुद्ध का जन्म नेपाल की तराइयों में स्थित लुम्बिनी में 563 ईसा पूर्व में वैशाख पूर्णिमा के दिन हुआ था। यह सर्वविदित है कि युवावस्था में उन्होंने मानव जीवन के दुखों को देखा जैसे रोगी व्यक्ति, वृद्धावस्था एवं मृत्यु। इसके विपरीत एक प्रसन्नचित्त संन्यासी से प्रभावित होकर बुद्ध 29 वर्ष की अवस्था में सांसारिक जीवन को त्याग कर सत्य की खोज में निकल पड़े।  

महात्मा बुद्ध ने 528 ईसा पूर्व में वैशाख पूर्णिमा के दिन बोधगया में एक पीपल वृक्ष के नीचे ध्यान करते हुए आत्म बोध प्राप्त किया।   वैशाख पूर्णिमा के दिन ही 483 ईसा पूर्व में कुशीनारा नामक स्थान पर महात्मा बुद्ध को निर्वाण प्राप्त हुआ। उनकी मृत्यु के पश्चात उनके शिष्यों ने राजगृह में एक परिषद का आह्वान किया, जहाँ बौद्ध धर्म की मुख्य शिक्षाओं को संहिताबद्ध किया गया। इन शिक्षाओं को पिटकों के रूप में समानुक्रमित करने के लिये चार बौद्ध संगीतियों का आयोजन किया गया जिसके पश्चात् तीन मुख्य पिटक बने।  विनय पिटक (बौद्ध मतावंलबियों के लिये व्यवस्था के नियम), सुत पिटक (बुद्ध के उपदेश सिद्धांत) तथा अभिधम्म पिटक (बौद्धदर्शन), जिन्हें संयुक्त रूप से त्रिपिटक कहा जाता है। इन सब को पाली भाषा में लिखा गया है। ध्यातव्य है कि बुद्ध के दर्शन का सबसे महत्त्वपूर्ण विचार ‘आत्म दीपो भवः’ अर्थात ‘अपने दीपक स्वयं बनो। इसका तात्पर्य है कि व्यक्ति को अपने जीवन का उद्देश्य या नैतिक-अनैतिक प्रश्न का निर्णय स्वयं करना चाहिये। यह विचार इसलिये महत्त्वपूर्ण है क्योंकि यह ज्ञान और नैतिकता के क्षेत्र में एक छोटे से बुद्धिजीवी वर्ग के एकाधिकार को चुनौती देकर हर व्यक्ति को उसमें प्रविष्ट होने का अवसर प्रदान करता है। बुद्ध के दर्शन का दूसरा प्रमुख विचार मध्यम मार्गके नाम से जाना जाता है। सूक्ष्म दार्शनिक स्तर पर तो इसका अर्थ कुछ भिन्न है, किंतु लौकिकता के स्तर पर इसका अभिप्राय सिर्फ इतना है कि किसी भी प्रकार के अतिवादी व्यवहार से बचना चाहिये।  बुद्ध दर्शन का तीसरा प्रमुख विचार संवेदनशीलताहै। यहाँ संवेदनशीलता का अर्थ है दूसरों के दुखों को अनुभव करने की क्षमता। वर्तमान में मनोविज्ञान जिसे समानुभूति कहता है, वह प्रायः वही है जिसे भारत में संवेदनशीलता कहा जाता रहा है। बुद्ध दर्शन का चौथा प्रमुख विचार यह है कि वे परलोकवाद की बजाय इहलोकवाद पर अधिक बल देते हैं। गौरतलब है कि बुद्ध के समय प्रचलित दर्शनों में चार्वाक के अलावा लगभग सभी दर्शन परलोक पर अधिक ध्यान दे रहे थे। उनके विचारों का सार यह था कि इहलोक मिथ्या है और परलोक ही वास्तविक सत्य है। इससे निरर्थक कर्मकांडों तथा अनुष्ठानों को बढ़ावा मिलता था। बुद्ध ने जानबूझकर अधिकांश पारलौकिक धारणाओं को खारिज किया। बुद्ध दर्शन का पाँचवा प्रमुख विचार यह है कि वे व्यक्ति को अहंकार से मुक्त होने की सलाह देते हैं। अहंकार का अर्थ है मैंकी भावना। यह मैंही अधिकांश झगड़ों की जड़ है। इसलिये व्यक्तित्व पर अहंकार करना एकदम निरर्थक है।बुद्ध दर्शन का छठा प्रमुख विचार ह्रदय परिवर्तन के विश्वास से संबंधित है। बुद्ध को इस बात पर अत्यधिक विश्वास था कि हर व्यक्ति के भीतर अच्छा बनने की संभावनाएँ होती हैं, ज़रूरी यह है की उस पर विश्वास किया जाए और उसे समुचित परिस्थितियाँ प्रदान की जाएँ। बुद्ध का सबसे कमज़ोर विचार उनका यह विश्वास है कि संपूर्ण जीवन दुखमय है।

उन्होंने जो चार आर्य सत्य बताए हैं, उनमें से पहला सर्वम दुखमहै अर्थात सबकुछ दुखमय है। इस बिंदु पर बुद्ध एकतरफा झुके हुए नज़र आते हैं जबकि जीवन को न तो सिर्फ दुखमय कहा जा सकता है और न ही सिर्फ सुखमय। सत्य तो यह है कि सुखों की अभिलाषा ही वे प्रेरणाएँ है जो व्यक्ति को जीवन के प्रति उत्साहित करती है। बुद्ध के विचारों में एक अन्य महत्त्वपूर्ण खामी नारियों के अधिकारों के संदर्भ में दिखती है। जैसे महिलाओं को शुरूआत में संघ में प्रवेश नहीं देना। ऐसा माना जाता है कि उन्होंने अपने शिष्य आनंद से कहा था कि अगर संघ में महिलाओं का प्रवेश न होता तो यह धर्म एक हजार वर्ष तक चलता पर अब यह 500 वर्ष ही चल पाएगा। जबकि वर्तमान में हम देखते हैं कि महिलाएँ हर क्षेत्र में पुरुषों से कंधे से कंधा मिला कर चलने में सक्षम हैं। महात्मा बुद्ध भारतीय विरासत के एक महान विभूति हैं। उन्होंने संपूर्ण मानव सभ्यता को एक नयी राह दिखाई। उनके विचार, उनकी मृत्यु के लगभग 2500 वर्षों के पश्चात् आज भी हमारे समाज के लिये प्रासंगिक बने हुए हैं।  वर्तमान समय में बुद्ध के स्व निर्णय के विचार का महत्त्व बढ़ जाता है दरअसल आज व्यक्ति अपने घर, ऑफिस, कॉलेज आदि जगहों पर अपने जीवन के महत्त्वपूर्ण फैसले भी स्वयं न लेकर दूसरे की सलाह पर लेता है अतः वह वस्तु बन जाता है। बुद्ध का अप्‍प दीपो भवःका सिद्धांत व्यक्ति को व्यक्ति बनने पर बल देता है। बुद्ध का मध्यम मार्ग सिद्धांत आज भी उतना ही प्रासंगिक है जितना बुद्ध के समय था। उनके इन विचारों की पुष्टि इस कथन से होती है कि वीणा के तार को उतना नहीं खींचना चाहिये कि वह टूट ही जाए या फिर उतना भी उसे ढीला नहीं छोड़ा जाना चाहिये कि उससे स्वर ध्वनि ही न निकले। दरअसल आज दुनिया में तमाम तरह के झगड़े हैं जैसे- सांप्रदायिकता, आतंकवाद, नक्सलवाद, नस्लवाद तथा जातिवाद इत्यादि। इन सारे झगड़ों के मूल में बुनियादी दार्शनिक समस्या यही है कि कोई भी व्यक्ति देश या संस्था अपने दृष्टिकोण से पीछे हटने को तैयार नहीं है। इस दृष्टि से इस्लामिक स्टेट जैसे अतिवादी समूह हो या मॉब लिंचिंग विचारधारा को कट्टर रूप में स्वीकार करने वाला कोई समूह हो या अन्य समूह सभी के साथ मूल समस्या नज़रिये की ही है।

महात्मा बुद्ध के मध्यम मार्ग सिद्धांत को स्वीकार करते ही हमारा नैतिक दृष्टिकोण बेहतर हो जाता है। हम यह मानने लगते हैं कि कोई भी चीज का अति होना घातक होता है। यह विचार हमें विभिन्न दृष्टिकोणों के मेल-मिलाप तथा आम सहमति प्राप्त करने की ओर ले जाता है। महात्मा बुद्ध का यह विचार की दुःखों का मूल कारण इच्छाएँ हैं, आज के उपभोक्तावादी समाज के लिये प्रासंगिक प्रतीत होता है। दरअसल प्रत्येक इच्छाओं की संतुष्टि के लिये प्राकृतिक या सामाजिक संसधानों की आवश्यकता पड़ती है। ऐसे में अगर सभी व्यक्तियों के भीतर इच्छाओं की प्रबलता बढ़ जाए तो प्राकृतिक संसाधन नष्ट होने लगेंगे, साथ ही सामजिक संबंधों में तनाव उत्पन्न हो जाएगा। ऐसे में अपनी इच्छाओं को नियंत्रित करना समाज और नैतिकता के लिये अनिवार्य हो जाता है। इस बात की पुष्टि हाल ही में अर्थ आवर शूट डेके रिपोर्ट से होती है जिससे यह पता चलता है कि जो संसाधन वर्ष भर चलना चाहिये था वह आठ माह में ही समाप्त हो गया।

प्रत्येक विचारक की तरह बुद्ध कुछ बिंदुओं पर आकर्षित करते है तो कुछ बिंदुओं पर नहीं कर पाते हैं। विवेकशीलता का लक्षण यही है कि हम अपने काम की बातें चुन लें और जो अनुपयोगी हैं, उन्हें त्याग दें। बुद्ध से जो सीखा जाना चाहिये, वह यह है कि जीवन का सार संतुलन में है, उसे किसी भी अतिवाद के रास्ते पर ले जाना गलत है। हर व्यक्ति के भीतर सृजनात्मक संभावनाएँ होती हैं, इसलिये व्यक्ति को अंधानुकरण करने के बजाय स्वयं अपना रास्ता बनाना चाहिये।


रश्मि वर्मा

सामाजिक कार्यकर्ता

मो. 88174 94455

(लेखक के स्वतंत्र विचार है)

Sanjeev khudshah interview with sukriti channel virendra borker DMAindia Online

 #dmaindia_online #personality_of_the_week #sanjeev_khudshah

पुनर्जन्म में विश्वास नहीं है इसलिए एक जन्म में ही तीन जन्म का काम करना है।

I do not believe in reincarnation, hence I have to do the work of three births in one birth.


“Khoob Chand Baghel was not only a dreamer of Chhattisgarh but he was also a great leader of social change.

 "खूब चंद बघेल न सिर्फ छत्तीसगढ़ के स्वप्न दृष्टा थे बल्कि वे सामाजिक परिवर्तन के महानायक भी थे !"

साहु रामलाल गुप्ता

                खूब चंद बघेल जी का जन्म 19 जुलाई 1900 को छत्तीसगढ़ रायपुर के पास पथरी ग्राम में हुआ था ।

            आप प्रारंभ से ही सामाजिक राजनीतिक जागरूकता से ओतप्रोत थे । अपनी मेडिकल शिक्षा के दौरान आपने पढ़ाई छोड़कर तत्कालीन स्वाधीनता संग्राम में कूद पड़े और कई बार जेल भी गए । आजादी मिलने के बाद भी आप


अपने जीवन के अंतिम समय तक विभिन्न राजनीतिक मंचों के साथ एवम् सामाजिक क्षेत्र में भी पूरी मजबूती के साथ अपनी उपस्थिति को आपने बनाए रखा ।

                सामाजिक असमानता, छुआछूत, और जाति भेदभाव के विरुद्ध आपने "हरिजन सेवक संघ" के मंत्री के तौर भी पूरी तन्मयता के साथ जुड़े रहे ।

"अपमानजनक परंपरा पर करारा प्रहार"

                तत्कालीन सामाजिक व्यवस्था में अनुसूचित जाति के लोगों का बाल नाई लोग नहीं काटते थे । इस सामाजिक असमानता के विरुद्ध आपने श्री अनंत राम बर्छिहा (भविष्य में विधायक) के साथ मिलकर एक सशक्त आंदोलन चलाया । जिसमें आपको पर्याप्त सफलता भी मिली । इस आंदोलन के कारण आपको सामाजिक बहिष्कार का दंश भी झेलना पड़ा ।

                इस मुद्दे पर अपने नाटक लिखकर जन-जन के बीच जाकर उसका सफल मंचन भी किया । जिसके लिए आपको सराहा भी गया ।

"उपजाति बंधन को तोड़ा"

                    आपने स्वयं उपजाति बंधन तोड़कर अपनी द्वितीय पुत्री की शादी दिल्लीवार कुर्मी समाज में किया । समाज ने पुनः इस मुद्दे को आधार बनाकर आपको सामाजिक बहिष्कृत का दंड दिया । आपने हिम्मत नहीं हारी और आपने अपनी तृतीय पुत्री की शादी भी "काका कालेलकर  आयोग" के सदस्य श्री रामेश्वर पटेल, बिहार (भविष्य में सांसद) से संपन्न कराई । आप सामाजिक रूढ़ियों पर सदैव करारा प्रहार करते रहे ।

"राष्ट्रीय कुर्मी महासम्मेलन"

                आपने अखिल भारतीय कुर्मी महासभा के दो-दो राष्ट्रीय अधिवेशन की अध्यक्षता भी की । प्रथम 1948 कानपुर में और द्वितीय 1966 नागपुर में । आपने राष्ट्रीय अधिवेशन में भारतीय हिंदू समाज में व्याप्त शाखाभेद, उपजातिभेद एवं जाति व्यवस्था के कारण, जो ऊंच-नीच, छुआछूत आदि असमानतावादी व्यवस्था थी । उसे समाज एवं राष्ट्रीय विरोधी करार देते हुए उसे दूर करने का आह्वान किया, ताकि राष्ट्रीय एकजुटता कायम की जा सके ।

                    "राष्ट्रीय अधिवेशन को संबोधित करते हुए आगे आपने कहा कि उपजातियां से भेदभाव मिटाना इस युग का छोटे से छोटा, हल्के से हल्का कदम होगा । सही मायने में तो हमको और आपको समस्त मानव जाति के अंदर रहने वाली ब्राह्मणवादी जाति-पांति की सड़ी एवं खड़ी व्यवस्था को ही पहले दूर करना होगा । वर्ण व्यवस्था रूपी शरीर में जाति व्यवस्था एक कोढ़ है । जो समस्त भारतीय समाज को नष्ट कर रहा है ।

"पंक्ति तोड़ो आंदोलन"

                    उसे समय छत्तीसगढ़ में शादी वगैरह के कार्यक्रम में हर जाति के लोगों को अलग-अलग पंक्ति में भोजन के लिए बैठाया जाता था । जिसे आपने "पंक्ति तोड़ो आंदोलन" चलाकर इस असामाजिक प्रथा को समाप्त करवाया । जो आगे चलकर सामाजिक सद्भाव के क्षेत्र में "मील का पत्थर" साबित हुआ ।

"किसबिन नाचा बंद करवाया"

                    उस समय जाति विशेष में अपने ही परिवार की बहन बेटियों से नाच-गाना आदि खुलेआम करवाया जाता था । इस तथाकथित "किसबिन नाच" को आपने कठिन प्रयास से बंद करवाया । आपने समाज से बेरोजगारी दूर करने के लिए "ग्राम उद्योग संघ" की भी स्थापना की । आपने गांव-गांव में विभिन्न प्रकार के ग्रामीण उद्योगों की स्थापना की । इस अभियान में तेल पेराई उद्योग , घानी निर्माण, हथकरघा, धान कुटाई, साबुन आदि के उद्योग स्थापित किए एवं मार्केटिंग भी करवाए ।

"शिक्षा के क्षेत्र में प्रयास"

                सन् 1958 -59 में आपने सिलियरी में जनता हाई स्कूल की स्थापना की । जिससे ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को भी शिक्षा का अवसर मिला । आज वही स्कूल "खूबचंद बघेल शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय" के नाम से जाना जाता है ।

"विभिन्न सामाजिक राजनीतिक कार्य"

                सन् 1931 से 1969 तक आप आजीवन सामाजिक एवं राजनीतिक संघर्ष में पूरी तनमयता के साथ मशगूल रहे । सन्  1946 की अंतरिम सरकार में अपने संसदीय सचिव का दायित्व भी संभाला था ।

                आप आप रवि शंकर शुक्ल की जन विरोधी नीतियों से असहमति व्यक्त करते हुए आचार्य कृपलानी और जयप्रकाश जी के समाजवादी आंदोलन से जुड़ गए । सन 52 और 57 में आप विधायक भी निर्वाचित हुए । सन् 54 के बाद अपने समाजवादी आंदोलन की बागडोर भी छत्तीसगढ़ में संभाली । समाजवादी आंदोलन में आपके प्रमुख साथी ठाकुर प्यारेलाल सिंह, विश्वनाथ यादव एवं तामस्कर जी एडवोकेट रहे, ये सभी गांधीवादी थे ।

"जनहित के मुद्दों पर संघर्ष से आप कभी भी पीछे नहीं रहे"

                    आप आप जनहित के मुद्दे पर सदैव संघर्षरत रहे । चाहे छुई-खदान तहसील का गोली चालान कांड रहा हो या 1961 में आदिवासियों पर लोहांडीगुड़ा में गोली चालन कांड रहा हो या तकाबी के माध्यम से किसानों को लूटने का मुद्दा रहा हो । इन सभी मुद्दों पर आपने सरकारी षडयंत्र के विरुद्ध खुलकर पूरी ताकत से अपनी आवाज उठाई ।

                   कैलाश नाथ काटजू के मुख्यमंत्रित्व काल में भी आप जनहित के मुद्दे पर सदैव सरकार से टकराते रहे। चाहे सायना बांध घपला कांड हो या 1961 में धान निर्यात पर प्रतिबंध का मुद्दा रहा हो । इन सभी मुद्दों पर आपने बृजलाल वर्मा एवम् हरि प्रेम बघेल आदि के सहयोग से "धान सत्याग्रह आंदोलन" चलाया ।

"बस्तर का बहुचर्चित कांड"

                   1966 में आदिवासी राजा एवम् बस्तर नरेश प्रवीरचंद्र भंजदेव सहित 300 आदिवासी जनों की हत्या के विरोध में अपने द्वारिका प्रसाद मिश्र से खुला विरोध व्यक्त किया था ।

"किसानों को उनका हक दिलवाया"

                    भिलाई स्टील प्लांट की स्थापना के समय जिन किसानों की जमीन गई थी । उन्हें अनिवार्य रूप से नौकरी न देने पर आपने आंदोलन चलाकर किसानों को उनका हक दिलाया । इसी तरह हीराकुंड  बांध, रायगढ़ में भी किसानों को उनका हक दिलाने तक आपने संघर्ष किया ।

"छत्तीसगढ़ राज्य की परिकल्पना एवम् उनका संघर्ष"

                सन 1946 में ही आपने कांग्रेस की बैठक में छत्तीसगढ़ को अलग राज्य बनाने का प्रस्ताव की चर्चा की थी । छत्तीसगढ़ के विकास के मुद्दे को लेकर अपने सन् 1948 में शुक्ला मंत्रिमंडल से त्यागपत्र भी दे दिया था ।

                छत्तीसगढ़ के मुद्दों को लेकर "क्षुब्ध छत्तीसगढ़" शीर्षक से लेख लिखकर "राष्ट्र बंधु" पेपर में छपवाया भी था । जिसमें छत्तीसगढ़ की उपेक्षा का मुद्दा मजबूती के साथ आपने उठाया था ।

                उनका कहना था कि छत्तीसगढ़ के सोए स्वाभिमान को जगाना, एवं उसके गौरव गरिमा को उजागर करना, उसे शोषण, अन्याय और दमन से मुक्त कराना ही उनका लक्ष्य है ।

                 वे विभिन्न सभाओं एवं बैठकों एवं लेखों के माध्यम से छत्तीसगढ़ की अस्मिता और उसके मुद्दे को उठाते रहे ।

                1956 में छत्तीसगढ़ राज्य की कल्पना को साकार रूप देने के लिए जुझारू एवं कर्मठ कार्यकर्ताओं का एक सम्मेलन राजनांदगांव में आयोजित भी किया गया । सम्मेलन में छत्तीसगढ़ी महासभा का गठन भी किया गया । सम्मेलन में छत्तीसगढ़ राज्य का प्रस्ताव भी पारित किया गया ।

                25 सितंबर 1967 को रायपुर में छत्तीसगढ़ महासभा को पुनर्गठित किया गया । सर्वसम्मत से छत्तीसगढ़ महासभा का नाम बदलकर "छत्तीसगढ़ भातृ संघ" स्वीकार किया गया । परसराम यदु,  रेशमलाल जांगड़े, हरि ठाकुर, रामाधार चंद्रवंशी आदि सामाजिक राजनीतिक नेतृत्वकर्ताओं ने आपकी आवाज को अपनी भी आवाज दी । इस लक्ष्य में आपको बृजलाल वर्मा एवं राजा नरेश चंद्र सिंह का भी समर्थन एवं सहयोग मिला ।

                इस आंदोलन के बढ़ते प्रभाव से घबराकर तत्कालीन मुख्यमंत्री श्यामा चरण शुक्ल ने इस संगठन पर प्रतिबंध लगा दिया था ।

"छत्तीसगढ़िया के मुद्दे पर उनका दृष्टिकोण"

रवि शंकर विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति को अपने छत्तीसगढ़िया की परिभाषा को स्पष्ट करते हुए बताया था कि, 

                "जो छत्तीसगढ़ के हित में अपना हित समझता है और छत्तीसगढ़ के मान सम्मान को अपना मान सम्मान समझता है एवम् छत्तीसगढ़ के अपमान को अपना अपमान समझता है, वह छत्तीसगढ़ी है, चाहे वह किसी भी धर्म, भाषा, प्रांत या जाति का हो ।"

                    आजादी मिलने के बाद ही उन्हें तत्कालीन सरकार के रवैए से छत्तीसगढ़ की उपेक्षा का एहसास हो गया था । उन्होंने देखा कि शासक वर्ग छत्तीसगढ़ के शोषक वर्ग को सहयोग के साथ बढ़ावा भी दे रहा है एवं छत्तीसगढ़ की शोषित पीड़ित जनता को पूरी तरह से उपेक्षित कर दिया है ।

                वरिष्ठ पत्रकार मधुकर खेर आपके बारे में लिखते हैं कि, प्रचारतंत्र का स्वतंत्र जाल न होने के कारण डॉक्टर बघेल के व्यक्तित्व एवं कृतित्व को वह सम्मानजनक स्थान नहीं मिल पाया जिसके कि वे हकदार थे ।"

                1965 में भीषण अकाल के समय "टाइम्स पत्रिका" की अमेरिकी महिला पत्रकार लिखती हैं कि, मेरे दो घंटे तक डॉक्टर बघेल का साक्षात्कार लेने के बाद, छत्तीसगढ़ जैसे पिछड़े क्षेत्र में भी ऐसे जुझारू कर्मठ नेतृत्व हो सकते हैं, इस बात पर मुझे आश्चर्य हुआ ।

                22 फरवरी 1969 को आप अपनी विशाल सामाजिक, राजनीतिक विरासत छोड़कर हम सबसे विदा हो गए ।

                छत्तीसगढ़ सरकार आज प्रतिवर्ष 2 लाख का पुरस्कार अपने छत्तीसगढ़ के माटी पुत्र डॉक्टर खूबचंद बघेल के नाम पर प्रदान करती है ।

                सच तो यह है कि आज अर्द्ध शताब्दी के बाद भी समाज के इस संघर्षशील, त्यागी, जागरूक, समाज समर्पित व्यक्तित्व का उचित मूल्यांकन नहीं हो पाया है । उन्हें सिर्फ "छत्तीसगढ़ का स्वप्न दृष्टा" कहना उनका सही मूल्यांकन नहीं होगा । वह एक ओर जहां समर्पित व्यक्तित्व के स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे, वहीं इन दोनों अलंकरणों से हटकर आप सर्वप्रथम "सामाजिक न्याय को प्रतिबद्ध एक सामाजिक योद्धा" भी थे, जो इनकी वास्तविक विरासत मनाई जानी चाहिए ।

                आपके यशस्वी पौत्र चार्टर्ड अकाउंटेंट  विष्णु दत्त बघेल जी आपके आंदोलन और संघर्ष को आगे बढ़ाने के लिए पूरी तरह से संकल्पित है एवं उनकी विचारधारा को आगे बढ़ाने में आप सतत प्रयासरत भी हैं ।


लेखक-

साहु रामलाल गुप्ता,

मोबाइल 94077 64442.

बहुजन समाज को सांस्‍कृतिक गुलाम कैसे बनाया है? सत्‍ता धारी सवर्ण समाज ने। bahujan samaj cultural

 बिना सांस्‍कृतिक गुलामी के ये कैसे संभव है कि‍ महिलाएं उस रामायण के कांड का पाठ खुद करती? जिसमें यह कहा गया है डोर गवार शुद्र पशु नारी यह है ताड़न के अधिकारी। एक दलित ओबीसी उस भागवत कथा का आयोजन खुद करता है जिसमें उसे नीच बताया गया है। इसलिए एसी एसटी पिछड़ा वर्ग समाज को सांस्कृतिक गुलामी का एहसास कराना जरूरी है।

हिंदुओं की आबादी क्यों कम हो रही है, why the Hindu population is decreasing or decline संजीव खुदशाह

 हाल ही में प्रधानमंत्री मोदी के आर्थिक सलाहकार परिषद ने सर्वे किया और यह पाया की पिछले 65 सालों में हिंदुओं की जनसंख्या 8% कम हुई है और अल्पसंख्यक जैसे मुस्लिम, ईसाई, सिख और बौद्ध की आबादी बढ़ी है। आई जानने की कोशिश करते हैं हिंदू बहुल इस देश में आखिर हिंदुओं की संख्या क्यों काम हो रही है?