Tuesday, January 28, 2020

All Episode of personality of the week

डीएमए इंडिया ऑनलाइन यूट्यूब चैनल द्वारा प्रसारित खास एपिसोड *पर्सनैलिटी ऑफ द वीक* की तमाम कड़ियों को यहां आप देख सकते हैं। 

1 हिमांगी कडलक https://youtu.be/A3VbiZdAlVQ
2 अंजू मेश्राम https://youtu.be/xaUfTJBolLM
3 विश्वास मेश्राम https://youtu.be/7ufIhaD1gKI
4 राजेंद्र गायकवाड https://youtu.be/N9aEKNIKG6k
5 चंद्रिका कौशल https://youtu.be/v5t5Y-QySyE
6 विष्णु बघेल https://youtu.be/rAJllRcDJns
7 शुभ्रांशु हरपाल https://youtu.be/aXEH4hH99-0
8 रतन गोंडाने https://youtu.be/k0wESQHTItQ
9 दिनेश मिश्र पार्ट 1 https://youtu.be/7Hkwgap-cH8
10 दिनेश्वर मिश्र पार्ट 2 https://youtu.be/YUyLI7Rhhqg
11 रवि बौद्ध https://youtu.be/qufbhrnA4tc
12 डॉ अमिता https://youtu.be/C7MtHbTn0GM
13 नंद कश्यप https://youtu.be/c_EQRuCLaq4
14 महादेव कावरे(DM) https://youtu.be/B-v6eLdtais
15 शाकिर कुरैशी https://youtu.be/S9GkocgCobM
16 नीलेश लंगोटे https://youtu.be/ulZyl-BXnqs
17 जन्मेजय सोना https://youtu.be/PeCZEi6aP98
18 गौतम बंधोपाध्याय https://youtu.be/jFXGWKtYduk
19 तूहीन देव https://youtu.be/nsFIMxpD74w
20 शेखर नाग https://youtu.be/zZx8sLpu9SE
21 समर सेन गुप्ता https://youtu.be/ty6QvY0ZHK4
22 राजकुमार सोनी https://youtu.be/UISabjctzVA
23 उत्तम कुमार https://youtu.be/9W_P9yzFZGY
24 निसार अली https://youtu.be/uHf8rIOieD8
25 ललित सुरजन https://youtu.be/K07ZRVs0Qcs
26 राजू भारतवासी https://youtu.be/g7FR0RpR-ys
27 इरफान इंजीनियर https://youtu.be/br3jhGPFeQo
28 राजेश कुमार https://youtu.be/tlp-69yQACs
29 अखिलेश ऐडगर https://youtu.be/EbO4ywkT7KE
30 उमाकांत https://youtu.be/Qa9KWBXGfLc
31 बेजवाड़ा विल्सन https://youtu.be/TXA4-edN1O8
32 केके नायकर https://youtu.be/G8W3NBxonec
33 मिनहाज असद https://youtu.be/dpMufO0xxI0
34 सुहास बनसोड https://youtu.be/ejLwznXQHr0
35 डॉक्टर गोल्डी एम जॉर्ज https://youtu.be/abaqaC5u82s
36 परदेशी राम वर्मा https://youtu.be/WeqKicTlWkc
37 तीजन बाई https://youtu.be/b7c6CMcqHc4
38 केआर शाह https://youtu.be/L6alEDn68cI
39 गोरेलाल चंदेल https://youtu.be/lSZ6ic6VRIg
40 डॉ जीवन यदु https://youtu.be/HHM8NGKwoZ8
41 प्रोफेसर चौथी राम यादव https://youtu.be/-xIPg4UL0B4
42 निर्मला पुतुल https://youtu.be/fE382LVBbrk
43 लक्ष्मण गायकवाड़ https://youtu.be/Cvf35DuG3mo
44 मुसाफिर बैठा https://youtu.be/7IMbe7sD2r8
45 डॉक्टर नरेंद्र नायक https://youtu.be/8x93tk3bXSU
46 दुर्गा झा https://youtu.be/4Tsx3-Pczas
47 ट्रांसजेंडर विद्या राजपूत https://youtu.be/QmkfrBHGLd0
48 एडवोकेट रामकृष्ण जांगड़े https://youtu.be/LVd5nXAb7ho
49 शांति स्वरूप बौद्ध https://youtu.be/K5w7XVQHoiw
50 संजीव खुदशाह https://youtu.be/ktNgp_DXUKI
51 दाऊराम रत्नाकर https://youtu.be/1YALYGvYvbg
52 डॉक्टर आरके सुखदेवे https://youtu.be/b9NouBlq0dQ
53 डॉक्टर लाखन सिंह https://youtu.be/zB1QydGgZgI
54 आनंद मिश्रा https://youtu.be/HnDKD240NEQ
55 प्रियंका शुक्ला https://youtu.be/ippUQl0YHww
56 कपूर वासनिक https://youtu.be/otkszOIIdng
57 अनुज श्रीवास्तव https://youtu.be/tt3mqui46Xc
58 अनिल चमड़िया https://youtu.be/H7GXIydMWlM
59 नंद कुमार बघेल भाग 1 https://youtu.be/26mxTAa9ZaI
59 नंद कुमार बघेल भाग 2 https://youtu.be/MbvWJrkWSuQ
60 राज कुमार जांगड़े https://youtu.be/7Gr_7UOrPRE
61 सुबोध देव https://youtu.be/H4uLd5DV40s
62 विनय रतन सिंह https://youtu.be/QtQxo2EccBw
63 रिंचीन https://youtu.be/26prS-JJWxw
64 कैलाश बनवासी https://youtu.be/mV9iDdu2drI
65 सादिक अली https://youtu.be/-_1GTDCLE6U
66 डॉ राम पुनियानी https://youtu.be/mD_3f8SS2Uo
67 जय गोविंद बेरिया https://youtu.be/ljuR5pubaPI
68 सुभाष गताडे https://youtu.be/IlUNXOUbBRY
69 हिमांशु कुमार
70 कला दास डेहरिया

इन वीडियो को देखें और शेयर करें तथा लाइक सब्सक्राइब जरूर करें।

Monday, January 20, 2020

*27% ओबीसी आरक्षण पर रोक लगवाने वाले कुणाल शुक्ला को छत्तीसगढ़ सरकार से पुरस्कार*


RTI एक्टिविस्ट कुणाल शुक्ला को *कबीर विकास संचार संस्थान शोध पीठ* के *अध्यक्ष* नियुक्त किया गया है। यह संस्थान कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता विश्वविद्यालय के कैम्पस में संचालित है।


बता दें कि कुणाल शुक्ला वही व्यक्ति हैं जिन्होंने ओबीसी के 27% आरक्षण के विरोध में हाई कोर्ट में अपील किया था और वहां से रोक लगवाई थी। 

उनके इस कार्य से खुश होकर छत्तीसगढ़ ब्राह्मण उत्थान सभा ने उनका एक बड़ा सम्मान समारोह भी रायपुर में आयोजित किया था।
अब प्रश्न यह उठता है कि ओबीसी, एससी, एसटी के लिए काम करने का दावा करने वाली भूपेश सरकार क्या वंचित वर्ग को छल रही है ? क्या कबीर पंथी समाज जैसे मानिकपुरी, साहू , सतनामी से कोई भी योग्य व्यक्ति इस पद के लिए नहीं मिला? 


इधर ओबीसी समाज अपने बीच का मुख्यमंत्री पाकर फूले नहीं समा रहा है। वहीं दूसरी ओर ओबीसी समाज को मिले आरक्षण पर स्टे करने वाले व्यक्ति को इनाम स्वरूप ऊंचे ऊंचे पदों से नवाजा जा रहा है। अब प्रश्न उठता है कि *क्या इतना सब होने के बावजूद ओबीसी एससी एसटी* समाज *कान में रुई* डाल कर सोता रहेगा या कुंभकरण नींद से जागे का भी?

Discussion on the novel of kishan lal "cheetiyo ki vapsi"

किशनलाल के उपन्यास चिटियों की वापसी पर हुई चर्चा


दिनांक 19 जनवरी 2020 रविवार की सुबह 10 30 से 1.30 तक वृंदावन  सभागृह, सिविल लाइंस, रायपुर में उपन्यासकार किशनलाल के उपन्यास "चिटियों की वापसी" कपर चर्चा की गई। सर्वप्रथम अतिथियों को  किताब भेंट कर  उनका स्वागत किया गया । किशनलाल ने उपन्यास के शुरुआती अंशों का पाठ किया जिसमें उन्होंने रायपुर के बसने और महानगर की प्रतिस्पर्धा,  नया रायपुर के विकास पर बातचीत की। दरअसल यह उपन्यास विभिन्न मुद्दों पर केंद्रित है खासतौर पर उस गुरु जी की कहानी पर केंद्रित है जो जात पात जैसी रूढ़ियों को तोड़ता हुआ नए आयाम गढ़ता है।
इस सारगर्भित चर्चा में जामिया मिल्लिया इस्लामिया की प्रो. हेमलता महिश्वर ने बताया कि यह उपन्यास पढ़ना शुरू करने के बाद बीच में छोड़ने का मन नहीं करता और पाठक पूरा पढ़ने के बाद ही दम लेता है. उन्होंने उपन्यास के तमाम सारे पात्रों का बारीकी से विश्लेषण किया और गांव से शहर आने, दलित अस्मिता के प्रखर होते जाने के परिणामस्वरूप उठने वाले द्वंदों को उजागर करने के लिए लेखक की प्रशंसा की। उपन्यास के मुख्य पात्र गुरुजी के शिक्षा को लेकर लगाव, स्त्री पुरुष समानता, अहिंसा को तरजीह देने, होली दिवाली की जगह  गुरु घासीदास जयंती और डाक्टर बाबासाहेब अंबेडकर जयंती को त्यौहारों की तरह धूमधाम से मनाये जाने आदि घटनाओं के माध्यम से उपन्यास के नैसर्गिक रुप से विकसित किए जाने के लिए उन्होंने किशनलाल की प्रशंसा की। प्रोफेसर हेमलता महिश्वर ने किशनलाल को भाषा के स्तर पर कुछ सुधार की सलाह भी दी और इस उपन्यास को समकालीन हिंदी साहित्य की सशक्त उपलब्धि बताया। रायपुर के दलित लेखक संजीव खुदशाह ने अपने उद्बोधन में कहा की विस्थापन की त्रासदी को इस उपन्यास में बखूबी बताया गया है साथ साथ किस प्रकार वंचित वर्ग के व्यक्ति का विकास के दौरान तमाम कुरीतियों से संघर्ष करना और आगे बढ़ने की कहानी बताई गई है। सांझा मंच के विश्वास मेश्राम ने अपने वक्तव्य में कहा की चीटियों की वापसी हासिए के लोगों को केंद्र में रखकर लिखा गया एक अच्छा उपन्यास है। इसे हिंदी साहित्य में जैसी चर्चा या ख्याति मिलनी चाहिए थी वह नहीं मिली। लेकिन भविष्य में आलोचक और पाठक इस पर जरूर गौर करेंगे। उन्होंने गांवों में व्याप्त जातिवादी, सामंती विषमता को दलित वंचितों के शहर की ओर आने का मुख्य कारण बताते हुए शहरों में अवसरों की उपलब्धता को केंद्र में रखने के लिए उपन्यासकार किशनलाल की प्रशंसा की । प्रलेस के संजय शाम ने कहा कि यह एक अद्भुत उपन्यास है इसे किसी वाद में घेरकर कर देखना उपन्यास के मूल्य को छोटा करने जैसा है। इसे विस्तृत नजरिए से देखना चाहिए। रंगकर्मी निसार अली ने कहा की आज का समय ऐसा है जब बात को क्लियर होकर कहा जाए यदि आप वैज्ञानिक और प्रगतिशील विचारधारा के हैं तो आपको उस वाद में क्लियर आना चाहिए चाहे उसका रंग नीला या सुर्ख हो। लोक कलाकार यशवंत सतनामी ने अपना एक प्रसिद्ध लोकगीत सुनाया। नंदकुमार कंसारी, भागवत प्रसाद, प्रो. अविनाश मेश्राम, प्रो. के के सहारे आदि ने चर्चा की । कार्यक्रम के अंत में बीके अय्यर ने धन्यवाद ज्ञापन दिया और सभी अतिथियों का आभार व्यक्त किया। अंजू मेश्राम ने इस पूरे कार्यक्रम का सफल संचालन किया।

Friday, January 3, 2020

Short information about cancer dr. Bansode


 केंसर के बारे में संक्षिप्त जानकारी
                                     
( लेखक :- डॉ के बी बंसोडे )
                 
प्रश्न 01 :-  केंसर क्या है ?
सामान्यतः हमारे शरीर के सभी अंगों में कोशिकाएं अपना निर्धारित कार्य करती रहतीं हैं. वे अपना जीवनकाल पूरा करती है तथा नई कोशिकाओं को अपने स्थान पर स्थापित करती रहती है. लेकिन केंसर की बीमारी में कोशिका का कार्य गड़बड़ हो जाता है.







केंसर एक ऐसी बीमारी है जिसमे हमारे शरीर के किसी अंग की कोई एक कोशिका में अचानक ही असामान्य विकास होने लगता है . धीरे धीरे यह कोशिका अन्य दूसरी कोशिकाओं को भी प्रभावित करके दूसरी आसपास की सभी सामान्य कोशिकाओं को नुकसान पहुँचाने लगती है .यह इकलौती कोशिका जो अपना सामान्य निर्धारित कार्य छोड़कर, वह अपना खुद का विकास तेज गति से करती है . इस समय वह अपने आसपास की सभी दूसरी सामान्य कोशिकाओं के विकास को भी बाधित करती है , तथा उनके कार्यों को भी प्रभावित करके उन्हें नष्ट करती है . इसके कारण असामान्य कोशिकाओं का एक समूह निर्मित हो जाता है , तथा वह एक गांठ का रूप ले लेता है ..इस समय  शरीर का सामान्य क्रियाकलाप गड़बड़ा जाता है . तथा विभिन्न प्रकार की गड़बड़ी शरीर में दिखाई देती है . इसे ही केंसर कहते हैं.





प्रश्न 02 :- शरीर में कोई भी गांठ केंसर ही होती है ?
आमतौर पर जो भी गांठ शरीर के किसी भी हिस्से में दिखाई देती है , वह जरुरी तौर पर केंसर की ही गांठ हो यह कहना सही नहीं है . गांठ दो प्रकार की होती हैं . (1) सामान्य गांठ जिसे चिकित्सीय भाषा में बेनाईन ट्यूमर ( साधारण गांठ) कहते हैं . जो आमतौर पर शरीर को कोई अधिक नुकसान नहीं पहुँचाती है .
 (2) दुसरे तरह की असामान्य गांठ जिसे चिकित्सीय भाषा में मेलिग्नेन्ट या कार्सिनोजेनिक ट्यूमर (केंसर की गांठ ) कहते हैं . यह अत्यधिक घातक होती है .
प्रश्न 03 :- केंसर कितने प्रकार के होते हैं ?
सारकोमा, मेलोनोमा, लिम्फोमा एवम लयूकेमिया .यह चार प्रमुख प्रकार के केंसर शरीर में होते हैं
सारकोमा :- हड्डियों , मांस पेशियों , लीवर ,पेन्क्रियास जैसे सभी ग्रंथियों का
          केंसर होता है .
मेलोनोमा :- यह शरीर की त्वचा का केंसर होता है
लिम्फोमा :-  लिम्फ ग्रंथि का केंसर होता है .
लयूकेमिया:-  यह रक्त का केंसर होता है . यह दुसरे अन्य प्रकार के केंसर की तरह गांठ का निर्माण नहीं होता है बल्कि इसमें रक्त कण अन्य प्रकार की दुसरे रक्त कणों को नष्ट करता है तथा उनके सामान्य विकास में बाधक होता है .


प्रश्न 04 :-  केंसर कहाँ कहाँ होता है ?
           केंसर शरीर के किसी भी अंग में या सभी अंदरूनी या बाह्य अंगों में कहीं भी हो सकता है .






प्रश्न 05 :- महिलाओं में कौन कौन से केंसर प्रमुख होते हैं ?
          वैसे तो महिलाओं को भी पुरुषों की तरह सभी प्रकार के केंसर होते हैं लेकिन महिलाओं में ज्यादातर स्तन के केंसर तथा बच्चे दानी के केंसर भी होते हैं .इसके आलावा मुख के केंसर , फेफड़े का केंसर एवम् पेट के आमाशय का केंसर भी अधिकतम होता है .

 प्रश्न 06 :- पुरुषों में कौन कौन से केंसर होते हैं ?
         पुरुषों में ओंठ तथा मुख के केंसर, फेफड़े का केंसर, आमाशय का केंसर आहार नली का केंसर, गुदा द्वार का केंसर तथा प्रोस्टेट ग्रंथि का केंसर अधिकतम होता है .

प्रश्न 07 :- क्या केंसर की बीमारी छूत जैसी बीमारी होती है ?
         नहीं , यह छूत जैसी बीमारी नहीं है . यह दरअसल एक तरह की जेनेटिक बीमारी की तरह ही होती है . यदि परिवार के किसी भी सदस्य को केंसर की बीमारी होती है , तो मरीज के साथ किसी भी प्रकार की दुरी रखना या उसके साथ किसी भी तरह का भेदभाव , अलगाव या  दुर्व्यवहार करना सही नहीं है .मरीज के साथ एक ही कमरे में रहने से , साथ उठने – बैठने , खाने –पीने, एक बिस्तर पर सोने से या एक ही थाली में खाना खाने , एक ही गिलास से पानी पीने से केंसर की बीमारी दुसरे सामान्य व्यक्ति को नहीं हो जाती है लेकिन केंसर के मरीज को स्वच्छता पूर्वक रखना , उसके खान-पान पर ध्यान दिया जाना आवश्यक है केंसर के मरीज को  जब शारीरिक तकलीफ होती है , तो उसके साथ बहुंत ही संवेदना पूर्वक सहानुभूति के साथ अपनत्व भरा व्यवहार करने की जरूरत होती है . क्योकि केंसर के मरीज की बीमारी के कारण उसकी भावनात्मक तौर पर उसके जीवित रहने की आशा  कमजोर हो जाती है .यदि केंसर के मरीज को हम पूरी सहानुभूति के साथ बीमारी से  लड़ने की हिम्मत देते हैं, तो उसकी जीवन जीने की उम्मीद बढ़ जाती है तथा इस तरह केंसर का मरीज बीमारी को भी हरा सकता है .

प्रश्न 08 :- केंसर कैसे होता है ?
        प्रमुख रूप से कोशिका में जेनेटिक परिवर्तन से शरीर की कोशिका के डी एन ए में बदलाव हो जाता है.  जिसकी वजह से कोई सामान्य कोशिका केंसर की कोशिका में बदल जाती है जब हम बीमारी के लिये जिम्मेदार कारणों की पड़ताल करते हैं , तो हमें निम्नलिखित अनेक प्रकार के कारणों को जानना तथा उनके बारे में विचार करना आवश्यक हो जाता है . 
(a)           जैसे सूर्य की किरणों से उत्पन्न अल्ट्रावाईलेट रेडीऐशन
(b)  अनेक प्रकार के रेडिओऐक्टिव पदार्थ द्वारा उत्सर्जित रेडीऐशन ,
    (c) रासायनिक पदार्थ जो तम्बाखू ,गुटका ,तम्बाखू से निर्मित या बिना तम्बाखू वाले पौऊच, गुड़ाखू , बीडी या सिगरेट के द्वारा शरीर में पहुँचते हैं . 
     (d)  अनियमित जीवन शैली तथा भोजन में अत्यधिक तेल घी मिर्च और मसालों के इस्तेमाल से भी केंसर होने की सम्भावना होती है .
    (e)  महिलाओं में बच्चे दानी के केंसर, पुरुषों के मल द्वार , पुरुषों के लिंग का केंसर के लिए “ हयूमन पैपिलोमा वाइरस” जिम्मेदार माना जाता है..अन्य दुसरे प्रकार के केंसर के लिये लगभग 15 प्रतिशत केंसर का कारण हिपेटाइटीस बी वाइरस , हिपेटाइटीस सी वाइरस , एड्स बीमारी ,हेलिकोबेक्टर पैलोराई नामक जीवाणुओं के कारण भी केंसर होने की सम्भावना होती है .

     (f)   जीवनशैली में गड़बड़ी के कारण नियमित तौर पर शारीरिक व्यायाम या कसरत के आभाव में अधिक मोटापा होना भी अनेक प्रकार के केंसर का कारण माना जाता हैं . शरीर के व्यायाम के आभाव में भोजन नली , आहारनाली, आमाशय इत्यादि के केंसर होना सामान्य है . नियमित व्यायाम के अभाव में लगातार कब्ज की शिकायत से बड़ी आँत के केंसर से लेकर रेक्टम ( गुदा द्वार ) तक के केंसर की सम्भावना होती है .
        (g)    कृषि कार्यों में नियमित तौर पर विभिन्न प्रकार से इस्तेमाल किये जाने वाले रासायनिक खाद , कीटाणु नाशक पदार्थ , कीट पतंगों को दूर रखने के लिए इस्तेमाल होने वाले सभी प्रकार के रसायन  भी हमारे शरीर मे केंसर पैदा करने वाले तत्व हैं .
 (h)     मच्छर मक्खी को दूर भगाने वाले रसायन भी केंसर के लिए जिम्मेदार हैं .
 (i)    नदी के पानी में विभिन्न फेक्टरियों द्वारा फेक्टरियों के विभिन्न प्रकार के अनुपयोगी रसायन को बहा देने से नदी का पानी भी प्रदूषित हो रहा है इस  प्रदूषित पानी के नियमित इस्तेमाल से समस्त प्रकार के जिव जंतु भी अनेक प्रकार की बीमारी से बीमार हो जाते हैं , उनमे से एक बीमारी केंसर भी है .
  (j)    शहरों में फेक्टरियों (कारखानों) के द्वारा विभिन्न प्रकार का वायु प्रदुषण भी किया जाता है . धुल , धुंवा, तथा विभिन्न प्रकार की गैस जो कारखानों की बड़ी बड़ी चिमनियों से निकालकर वायुमंडल की हवा को प्रदूषित करने से वायु प्रदूषित होती है . यह वायु प्रदुषण भी विभिन्न प्रकार की बिमारियों के साथ ही केंसर के लिए भी जिम्मेदार है .
   (k)   शराब के नियमित इस्तेमाल से आहार नली, लीवर, एवम स्वरतंत्र के केंसर की सम्भावना होती है .
   (l)  माता पिता के जींस के द्वारा भी केंसर होने की संभावना होती है.


प्रश्न 09 :- केंसर की बीमारी के प्रारम्भिक लक्षण क्या हैं ?
(1) मुँह के भीतर ओठों , जीभ ,मसूढ़ों या गाल के अंदर यदि किसी भी प्रकार के छाले हों ,जो लगातार कई दिनों से ठीक नहीं हो रहे हों .
(2) शरीर के किसी भी हिस्से में हुई गांठ . जो की उस जगह पहले कभी नहीं हुई थी . वह  यदि केंसर की गांठ होगी तो उसकी वृद्धि अधिक तेज गति से होती है . गांठ में दर्द भी हो सकता है ,या कभी कोई गांठ बिना दर्द के भी हो सकती है .जैसे की किसी भी महिला के स्तन में गांठ होने पर भी दर्द नहीं होता है . इसलिये शरीर के किसी भी हिस्से या अंग में बनी कोई भी गांठ की जानकारी मिलते ही जाँच करवाना आवश्यक है .
(3) लगातार बदहजमी हो या भोजन के पाचन की समस्या हो , कब्ज की शिकायत हो तो तुरंत चिकित्सक से परामर्श लेना अच्छा होता है .
(4) शरीर के किसी भी हिस्से से अचानक खून बहना भी केंसर का लक्षण हो सकता हैं .खांसी के साथ खून निकलना , उल्टी होने पर पेट से खून निकलना भी केंसर का एक कारण  हो सकता  है .पेशाब नली से खून निकलना , मल द्वार से टट्टी के साथ खून निकलना , बच्चेदानी से माहवारी के आलावा भी अचानक खून निकलना या सफ़ेद पानी का लगातार निकलना इत्यादी भी केंसर का कारण हो सकता है .
(5) खांसी का बिना रुके लगातार होना या कभी आवाज में भारीपन होना स्वरनालिका के केंसर का कारण भी हो सकता है .
(6) अचानक से शरीर का वजन गिर जाना भी किसी  छिपे हुवे केंसर का कारण हो सकता है .

प्रश्न 10  :- सामान्यतः हमारे देश में कितने प्रकार के केंसर होते हैं ?  
विश्व में लगभग 100 विभिन्न  प्रकार के केंसर होते हैं. यह हमारे शरीर के किसी भी हिस्से में होते हैं . हमारे देश में सामान्यतः 51 प्रकार के केंसर होते हैं महिलाओं में :- गर्भाशय के केंसर तथा स्तन के केंसर अधिक  होते हैं.पुरुषों  में  :- प्रोस्टेट का केंसर होता है , जो महिलाओं में नहीं होता , क्योकि यह ग्रंथि महिलाओं के शरीर में प्राकृतिक तौर पर ही नहीं होती है .
  महिलाओं तथा पुरुषों में :- बाकि सभी प्रकार के केंसर दोनों में होते हैं.  

  प्रश्न 11:- केंसर बीमारी की सांख्यिकी की जानकारी क्या है ?

         हमारे देश में भारत सरकार के मंत्रालय :- “स्वास्थ्य एवम् परिवार कल्याण विभाग “ द्वारा एक विभाग “Indian Council of Medical                  Resaerch “ का गठन किया गया है . जिसका कार्य देश में विभिन्न प्रकार के रिसर्च करना है , जिसमें जनता के स्वास्थ्य समस्या ,उनकी भौगोलिक स्थिथि, वहां के पर्यावरण , जनसख्या के अनुपात इत्यादि को जानना समझाना तथा उसके लिए विभिन्न कार्यक्रम भी तैयार  है . ICMR के अनुसार भारत में लगभग 14 लाख केंसर के मरीज हैं सन 2035 तक यह संख्या 38 लाख तक बढ़ जायेगी. लगभग 7 लाख व्यक्तियों की मृत्यु , प्रतिवर्ष केंसर की बीमारी से हो जाती है .हमारे देश में विभिन्न प्रकार की बिमारियों से होने वाली मृत्यु में  सबसे अधिक मृत्यु दर में, केंसर से मृत्यु की दर दुसरे नम्बर पर है, पहले नम्बर पर  ह्रदय रोग से मृत्यु होने वाले लोगो की संख्या है .केंसर की बीमारी के उपचार में होने वाला खर्च सबसे अधिक होता है . एक अध्ययन से यह जानकारी मिली है कि यदि सरकार द्वारा , किसी स्वयंसेवी संस्था द्वारा , या गैरसरकारी संस्था द्वारा भी मरीज की केंसर की बीमारी का खर्च भले ही वह वहन करे तो भी , इसके बावजूद  मरीज के परिवार का ही व्यक्तिगत  खर्च जो अलग से किया जाता है ,वह बीमारी के  उपचार के कुल खर्च का एक तिहाई खर्च उसकी जेब से निकल जाता है . हार्ट की बीमारी का जो अधिकतम खर्च होता है उससे दुगुना खर्च केंसर की बीमारी के उपचार में लग जाता है .किसी साधारण बीमारी की तुलना में लगभग 160 प्रतिशत खर्च केंसर की बीमारी के उपचार में हो जाता है .NPCDCS यानि “National Programmes for Prevention  of Cancer, Diabetes,  Cardiovascular disease and Stroke” के द्वारा यह जानकारी मिलती है कि भारत में सामान्तः स्तन केंसर,बच्चेदानी का केंसर तथा मुख का केंसर बाकि अन्य प्रकार के केंसर की तुलना में लगभग 34% है .ये तीनो प्रकार के केंसर जिनकी पहचान बीमारी के प्राथमिक चरण में ही की जा सकती है , तथा यदि इसका उपचार जल्द से जल्द शुरू कर दिया जाये ,तो बीमारी से मृत्यु होने की संभावना काफी कम हो जाती है . केंसर की बीमारी के बाद जो व्यक्ति 5 वर्ष या उससे अधिक जीवित रह सकते हैं . उनमे  60.2% मुख के केंसर वाले मरीज , 76.3 % स्तन केंसर के मरीज तथा 73.2% गर्भाशय के केंसर वाले मरीज जीवित रहते हैं .

 GLOBOCAN 2012 के अनुसार पुरे विश्व में जितने भी प्रकार के केंसर होते हैं , उसके 7.2 % केंसर के  मरीज भारत में हैं . भारत में केंसर के मरीजों की मृत्यु दर भी विश्व के अन्य देशों की तुलना में जो की बहुँत अधिक यानि  8.3% है.  क्योकि भारत में अज्ञानता के कारण केंसर  की बीमारी की पहचान देर से हो पाती है , तथा अशिक्षा के कारण बीमारी को अधिक महत्व नहीं दिया जाता है तथा गरीबी के कारण उपचार पूरी तरह नहीं करवाया जाता है .
प्रश्न 12 :- केंसर की जाँच के लिये कौन कौन सी पद्धति अपनाई जाती है ?
          केंसर की जाँच के लिए खून की जाँच , पेशाब की जाँच , सोनोग्राफी , एक्स रे , ऍम आर आई तथा गांठ की कोशिका को एक सुई के द्वारा निकालकर उसकी सूक्ष्म दर्शी यन्त्र से जाँच जिसे Biopasy (बायोप्सी) कहते हैं , महिलाओं के गर्भाशय में केंसर की जाँच के लिए “ Pep Smear” नामक शुरुवाती जाँच की जाती है . इस जाँच में महिला के जननांग से स्रावित होने वाले Vaginal Fluid ( वेजाइनल फ्लूइड ) की जाँच की जाती है . महिलाओं में होने वाले स्तन केंसर की जाँच के लिए मेमोग्राफी नामक जाँच की जाती है . आजकल एक नई मशीन के द्वारा भी पूरे शरीर की जाँच “ PET Scan “ (Positron Emission Tomography scan) से की जाती है . इस मशीन से पुरे शरीर का अध्ययन करके केंसर के फैलाव या उसके विस्तार या को देखा जा सकता है कि केंसर अपने मूल स्थान से आगे किस किस अंग तक फ़ैल चूका है . इन सब जाँच में जब  केंसर की बीमारी की पुष्टि हो जाती है तब उसके बाद ही केंसर का  उपचार निर्धारित किया जाता है . केंसर का उपचार करने वाले विशेषग्य विभिन्न प्रकार के जाँच के पश्चात् ही यह निर्धारित करते हैं कि किसी भी मरीज के केंसर अभी किस स्टेज में हैं . केंसर की बीमारी का उपचार उसके स्टेज (चरण ) द्वारा ही निर्धारित होता है . केंसर की बीमारी के स्टेज के निर्धारण के  लिए गांठ की साइज़ , उसके शरीर के अन्य अंगों में प्रसारण या विस्तार  की स्तिथि इत्यादि के अध्ययन के पश्चात् ही उसके उपचार को निश्चित किया जाता है . केंसर जब शरीर के किसी एक अंग में शुरू होता है , तो वह रक्त तथा लिम्फ ग्रंथि के द्वारा भी शरीर के दुसरे अंग तक पहुँच जाता है . इसलिए उपचार के पहले ही इस सब  का परिक्षण विस्तारपूर्वक किया जाता है . 

प्रश्न 13 :- केंसर का उपचार कैसे होता है ?
       केंसर का मुख्यतः तीन प्रकार से उपचार किया जाता है . जिसमें सर्जरी रेडियो थेरेपी तथा कीमोथेरेपी प्रमुख है . इसके आलावा विभिन्न अन्य उपचार की भी जानकारी निम्नलिखित है .
(a)  सर्जरी :- सबसे पहले गांठ के अधिकतम हिस्से को जो कि केंसर ग्रस्त है उसे ओपरेशन करके निकाल दिया जाता है . ताकि वह और अधिक दूसरी कोशिकाओं को रोग् ग्रस्त ना कर सके . इसके बाद आगे का उपचार जिसे रेडियोथेरेपी या किमोथेरेपी दोनों या दोनों में से कोई एक दिया जाता है .
(b) रेडियोथेरेपी :- इस उपचार में कोबाल्ट मशीन के द्वारा निर्धारित किरणों को शरीर के अंदर केसर की कोशिकाओं तक पहुँचाया जाता है . इस प्रकार  केंसर के गांठ की कोशिकाओं को  नष्ट या निष्क्रिय किया जाता है . जिसे बोलचाल की भाषा में सिंकाई करना कहते हैं . जो चिकित्सक रेडियोथेरेपी के विशेषग्य होते हैं , वे निर्धारित करते हैं कि केंसर की सिकाई कब कब की जायेगी . आम तौर पर सप्ताह में दो या तीन दिन सिकाई की जाती है .  आजकल रेडियो थेरेपी की नई तकनीक भी आ गई है जिसे ब्रेक्की थेरेपी भी कहते हैं , जिसमे मरीज की केंसर कोशिका को सीधे अंदरूनी सिकाई की जाती है .इसके कारण आजकल मरीर को रेडियो थेरेपी से होने वाले प्रतिकूल प्रभाव बहुंत कम हो गए हैं .
(c)  लेसर थेरेपी :-  यह भी रेडियो थेरेपी का ही एक प्रकार है . इस थेरेपी में कसेर की गांठ को तथा मूल कोशिका को टारगेट करके उसको लेसर किरणों से नष्ट किया जाता है .
(d) कीमोथेरेपी:- इस थेरेपी में मरीज को मुँह से खाने वाली दवा या इन्जेक्शन के द्वारा दवाईयां दी जाती है . यह दवाईयां मरीज के केंसर कोशिका को अन्दुरुनी अंग में फैलने से रोकती हैं .कीमोथेरेपी में भी नई नई दवाईयां आजकल उपलब्ध है जिससे दवाईयों केप्रतिकूल प्रभाव काफी कम हो जाते हैं
(e)  इम्मुनोथेरेपी :- इस उपचार में मरीज को दवाईयां दी जाती है , जिससे उसके शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ सके . यह बाकि अन्य थेरेपी के आलावा या साथ साथ भी दी जाती है .
(f)   हारमोन थेरेपी :- कुछ विशेष प्रकार के केंसर जैसे प्रोस्टेट केंसर तथा स्तन केंसर के मरीजों को हारमोन थेरेपी भी दी जाती है .
(g)  बोनमेरो ट्रांसप्लांट :- ब्लड केंसर जैसे लिम्फोब्लास्टिक लयूकेमिया नामक केंसर के मरीजों को बोनमेरो ट्रांसप्लांट भी किया जाता है . जिसमे हड्डियों की मज्जा को स्वस्थ डोनर से निकालकर मरीज को दिया जाता है .
(h) स्टेम सेल ट्रांसप्लांट :- यह भी एक उपचार की पद्धति है , जो फ़िलहाल हमारे देश में नहीं की जाती है .

प्रश्न 14 :- केंसर के उपचार के पश्चात क्या बाद में आगे बार बार जाँच होनी चाहिए या नहीं ?
 आवश्यक तौर पर मरीज को उसके केंसर का पूरा पूरा उपचार करवाने के बाद भी, निरंतर चिकित्सक के सम्पर्क में रहने की सलाह दी जाती है . मरीज का उपचार हो जाने के बाद भी उसे नियमित अन्तराल में चिकित्सक से मिलाकर अपनी आवश्यक जाँच करवाते रहना चाहिए , ताकि केंसर फिर से बढ़ने ना लग जाये . शुरुवात में चिकित्सक केंसर के पूर्ण उपचार हो जाने के बाद तीन माह में एक बार जाँच करवाने की सलाह देते हैं . धीरे धीरे यह अवधि बढ़ जाती है . फिर साल में एक बार ही चिकित्सक से मिलाकर जाँच करवाना जरुरी होता है .

प्रश्न 15 :- हमें कौन कौन सी सावधानी अपनानी चाहिए , ताकि केंसर की बीमारी से बच सकें ?
जी हाँ , “ बीमारी के उपचार से बेहतर है उससे बचाव “ जिसे चिकित्सक कहते हैं :- “ Prevention is better than cure.” इसलिए हह सावधानी अपनाने से केंसर से बचाव हो सकता है .
(1) नियमित दिनचर्या अपनाना बेहद आवश्यक है .समय पर भोजन करना, समय पर सो जाना , समय पर जागना जरुरी है . भोजन में संतुलित आहार लेना जरुरी है . अधिक मिर्च मसाले युक्त भोजन अधिक नहीं खाना चाहिए .भोजन में सलाद का भरपूर उपयोग किया जाना ज्यादा फायदे मंद होता है . फ़ास्ट फ़ूड तथा जंक फ़ूड को अधिक से अधिक खाने से बचना चाहिए . ताजे फल तथा हमारे आसपास उपलब्ध सभी प्रकार के फलों का धिक्त्क इस्तेमाल शरीर के लिए फायदेमंद होता है .
(2) नियमित शारीरक व्यायाम अत्यंत जरुरी कार्य है . प्रतिदिन कम से कम एक घंटे तेजचाल से चलने का व्यायाम सबसे सस्ता तथा सबसे अच्छा व्यायाम है . इसके आलावा यदि आप कोई खेल जैसे फुटबाल , बोलिबोल , साइकिलिंग , तैराकी या डांस वगैरह जो भी करें वह सब अच्छा ही है . कुल मिलाकर अपने शरीर के वजन को नियंत्रण में रखना आवश्यक हैं .यह सब कार्यों से हम ना केवल केंसर जैसी बीमारी से दूर रह सकते हैं बल्कि अनेक प्रकार की दूसरी बीमारियाँ जैसे ब्लड प्रेशर , डाइबीटीज, हार्ट डिसीज , किडनी डिसीज ,ब्रेन स्ट्रोक लीवर फेलुअर इत्यादि से भी निजात पा सकते हैं
(3) सभी प्रकार की नशीली वस्तुओं का इस्तेमाल करना तुरंत बंद कर देना ही बेहतर है . बीडी सिगरेट, तम्बाखू , गुड़ाखू, पानमसाले, पाऊच , शराब इत्यादि नुकसानदेय होते हैं .
(4) कुछ केंसर के बचाव के लिए आजकल टीकाकरण किया जाता है . जिसमे लड़कियों को गर्भाशय के केंसर से बचाव के लिए HPV नामक वेक्सिन लगाया जाता है . जो महिलाओं को होने वाले गर्भाशय के केंसर के लिए प्रतिरोधक क्षमता पैदा करने में सहायक होता है .
(5) इसके आलावा बच्चे के जन्म के पहले दस वर्ष की अवस्था तक विभिन्न प्रकार की बिमारियों से बचाव के लिए जो भी टीकाकरण किया जाता वह भी केंसर की बीमारी से बचाव के लिए सहायक होता है .   

अंत में स्वस्थ शरीर में स्वस्थ मन तथा मस्तिश्क होता है , तथा स्वस्थ शरीर देश को विकास के दिशा में उत्तरोत्तर आगे ले जाता है .

(आमजन में केंसर की घातक बीमारी के बारे में जागरूकता पैदा किये जाने हेतु संक्षेप में यह लेख लिखा गया है.)

Friday, December 13, 2019

राज्य के विश्वविद्यालयों में भर्ती एवं प्रवेश संबंधी दस्तावेजों की होगी जांच

राज्य के विश्वविद्यालयों में भर्ती एवं प्रवेश संबंधी दस्तावेजों की होगी जांच

सीबीआई ने उच्चशिक्षा विभाग को लिखा लेटर, पत्रकारिता विवि भी सवालों के घेरे में 

रायपुर। राज्य के  विश्वविद्यालयों और कॉलेजों में बीते सालों में हुई भर्ती प्रक्रिया और प्रवेश प्रक्रिया में प्रस्तुत किए गए शैक्षणिक दस्तावेजों की जांच करने के निर्देश उच्च शिक्षा विभाग ने जारी किए हैं।इस आशय का पत्र विभाग ने सीबीआई द्वारा भेजे गए पत्र का संज्ञान लेेकर सभी विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों को जारी कर दिया है।

गौरतलब है कि  केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो ने उच्च शिक्षा विभाग छत्तीसगढ़ शासन को राज्य के सभी विश्वविद्यालयों व महाविद्यालयों में हुई शासकीय नियुक्ति की प्रक्रिया में नौकरी पाए लोगों के शैक्षणिक दस्तावेजों की जांच करने का पत्र भेजा है। सीबीआई के केस नं आरसी1202018ए0006एवं आसी0062018ए0017 की जांच में मध्यप्रदेश के ग्वालियर में  फर्जी माध्यमिक शिक्षा बोर्ड बोर्ड ऑफ सेकें डरी एजुकेशन मध्यभारत ग्वालियर के नाम से संचालित होना पाया गया.

 इस फर्जी माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा बड़ी संख्या में 10 वीं एवमं 12वीं के प्रमाणपत्र जारी किए गए जिनके आधार पर लोगोंं के सरकारी नियुक्तियां पाने की बात का जिक्र सीबीआई ने अपने पत्र में किया है। इस संदर्भ में राज्य के विश्वविद्यालयों को भी अपने यहां हुई शैक्षणिक व अशैक्षणिक नियुक्तियों एवमं प्रवेश प्रक्रिया में पेश किए गए दस्तावेजों की जांच करने के निर्देश सीबीआई ने उच्चशिक्षा विभाग को दिए हैं ताकि ऐसे लोगों पर तत्काल कार्रवाई की जा सके.


उच्च शिक्षा विभाग का सभी विश्वविद्यालयों को आदेश
इस पत्र का संज्ञान लेकर उच्च शिक्षा विभाग की ओर से राज्य के सभी विश्वविद्यालयों को अपने यहां हुई भर्ती एवम प्रवेश प्रक्रिया में लगाए गए शैक्षणिक दस्तावेजों की जांच के लिए निर्देशित कर दिया गया है। इस आशय का पत्र सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों, कुलसचिवों व महाविद्यालयों के प्राचार्योँ को जारी कर दिया गया है। गौरतलब है कि इस जांच से कई अन्य बड़े मामले भी सामने आ सकते हैं क्योंकि लंबे समय से प्रदेश के कई विश्वविद्यालयों में भी फर्जी दस्तावेजों के इस्तेमाल की बात सामने आ रही थी. 


फर्जी नियुक्तियों के मामले विचाराधीन- केटीयू स्थापना से लेकर अब तक विवादों में 
प्रदेश के कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवम जनसंचार विश्वविद्यालय की तो पूरी नियुक्तियों की प्रक्रिया ही सवालों के घेरे में है। फर्जी अनुभव प्रमाणपत्रों के आधार पर तो कहीं नौकरी के लिए अयोग्य उम्मीदवारों को योग्य उम्मीदवारों पर तरजीह दी गई। 

फर्जीवाड़ा कर पाया रीडर का पद, धारा 420 का मामला
विश्वविद्यालय में कार्यरत एक वरिष्ठ प्राध्यापक जो रीडर के पद पर कार्यरत हैं, पर धारा 420 जैसे मामले दर्ज होने के बावजूद अब तक कोई संज्ञान नहीं लिया गया है। इस संबंध में लोकायुक्त की रिपोर्ट में भी नियुक्ति प्रक्रिया को गलत बताते हुए इस पर कार्रवाई करने की बात कही गई थी लेकिन तत्कालीन सरकार द्वारा इस पर कोई कार्रवाई नहीं की गई। उन पर फर्जी अनुभव प्रमाणपत्र के आधार पर नियुक्ति पाने व एक ही समय में कार्यानुभव और पत्रकारिता की पढ़ाई करने क े दस्तावेज प्रस्तुत करने के आरोप हैं।  ऐसे में अब वर्तमान सरकार से इस पर संज्ञान लेकर कड़ी कारवाई करने की आशा की जा रही है लेकिन अभी तक कोई भी ठोस कार्रवाई फर्जीवाड़े की शिकायतों पर नहीं की गई है।

विवि में दस्तावेजों की जांच भी सवालों के घेरे में 

अन्य राज्यों में प्रवेश या सरकारी भर्ती के दौरान प्रस्तुत किए गए शैक्षणिक दस्तावेजों की जांच संबंधित संस्थानों से सत्यापन कराए जाने का प्रावधान है लेकिन राज्य के विश्वविद्यालयों में इसका कितना  पालन किया जाता है ये संदेह के घेरे में है। सूत्रों के मुताबिक पत्रकारिता विश्वविद्यालय में बिना माइग्रेशन जमा कराए ही डिग्री निर्गत कर दिए जाने की बात भी सामने आई है। लेकिन इस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

Saturday, November 2, 2019

ओबीसी समाज के सम्मेलन में 10 प्रस्ताव हुए पारित

ओबीसी समाज के सम्मेलन में 10 प्रस्ताव हुए पारित

(ब्राह्मण के द्वारा कर्मकांड कराने से किया इंकार)


रायपुर। 
 ओबीसी समाज द्वारा ओबीसी महासभा के इस बड़े बैठक में ब्राह्मण समुदाय द्वारा ओबीसी समाज के लिए दिए गए आरक्षण के विरोध में हाईकोर्ट जाने और आरक्षण कम करवाने के विरोध में रोष जताया गया।
ओबीसी महासभा छत्तीसगढ़ के तत्वावधान में टिकरापारा स्थित साहू छात्रावास में ओबीसी समाज के सेमिनार का आयोजन किया गया। इसमें पिछड़ी जातियों को जनसंख्या के आधार पर शिक्षा, नौकरी, व्यवसाय, राजनीति और पदोन्नति में आरक्षण का लाभ देने पर चर्चा की गई। सम्मेलन में 10 प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किए गए।
सेमिनार में मुख्य अतिथि प्रदेश साहू समाज के अध्यक्ष अर्जुन हिरवानी एवं अध्यक्षता सीए विष्णु बघेल ने की। विशेष अतिथि चंद्राकर कुर्मी समाज के प्रदेश अध्यक्ष अश्विनी चंद्राकर, कात्यायनी देवी वर्मा, तेज बहादुर बंछोर, अनिल कुमार देवांगन अध्यक्ष ओबीसी महासभा शगुन लाल वर्मा, संयोजक कमलेश साहू ने विचार व्यक्त किया।
ये प्रस्ताव हुए पारित

1ओबीसी जनसंख्या के आधार पर 5% आरक्षण की मांग
2 मंडल कमीशन आंदोलन में एससी वर्ग दिए गए सहयोग के लिए धन्यवाद
3ओबीसी महासभा एसटीएससी माइनॉरिटी के साथ मिलकर सभी आंदोलन में सहयोग करेगा
4 ओबीसी महासभा ने ओबीसी समाज के लिए 27% आरक्षण दिए जाने पर मुख्यमंत्री का आभार जताया
5 ओबीसी समाज के लोग एससी, एसटी को अपना भाई मानते हुए उनको जातिगत अपमानित नहीं करेंगे
6 ओबीसी क्रीमीलेयर का दायरा को पूर्णतः हटाया जाए
7 सवर्ण वर्ग द्वारा ओबीसी के अधिकार का हनन करना बंद करें अन्यथा शिक्षा, नौकरी, व्यवसाय, राजनीतिक, धर्म, मठ-मंदिरों में पिछड़ा वर्ग सवर्ण के प्रति असहयोग आंदोलन करने पर मजबूर होगा
8  पिछड़ा वर्ग कर्मकांड में शिक्षित वर्ग द्वारा वैदिक मंत्रोधाार के माध्यम से संपन्न कराएं। ब्राह्मण की अनिवार्यता को समाप्त करें।
9ओबीसी समाज के महापुरुषों के साहित्य के साथ-साथ महात्मा फुले, पेरियार और अंबेडकर साहित्य का अध्यापन कराए
10  82 प्रतिशत आरक्षण को 3% की बढ़ोतरी करके 85% और एससी को 16% आरक्षण दिया जाए।