Tuesday, November 23, 2010

त्रैमासिक पत्रिका 'युद्धरत आम आदमी

त्रैमासिक पत्रिका 'युद्धरत आम आदमी` का 'पिछड़ा वर्ग` विशेषांक हेतु रचनाओं का आमंत्रण पत्र
मान्यवर,
...............................
...............................

विषय :     त्रैमासिक पत्रिका 'युद्धरत आम आदमी` का 'पिछड़ा वर्ग` विशेषांक हेतु रचनाओं का आमंत्रण पत्र
हमें यह सूचित करते हुए अत्यंत खुशी हो रही है कि रमणिका फाउंडेशन द्वारा प्रकाशित त्रैमासिक पत्रिका 'युद्धरत आम आदमी` का अगला विशेषांक 'पिछड़ा वर्ग` पर केन्द्रित होगा। इसमें पिछड़ा वर्ग से सम्बन्धित कहानी, कविता, लेख, सुझाव आदि आमंत्रित किये जा रहे हैं।
पिछड़ा वर्ग विशेषांक के इस आयोजन में हम उन जातियों की सामाजिक, आर्थिक व राजनीतिक स्थितियों पर चर्चा करेंगे जो ब्राह्मण, क्षत्रिय या वैश्य नहीं हैं न वे दलित या आदिवासी हैं। इसी प्रकार वे जातियां जिनका वर्ण-व्यवस्था में, उसकी स्थिति को लेकर विवाद है को भी इसमें शामिल करेंगे। जैसे कायस्थ, भूमिहार तथा मराठा आदि।
आप एक प्रबुद्ध लेखक हैं तथा सामाजिक सरोकार में आपका योगदान सराहनीय रहा है। तत् सम्बन्ध में आपसे रचनाएं आमंत्रित हैं। आशा करते हैं कि ३० दिसंबर २०१० तक आप अपनी रचनाएं निम्न पते पर प्रेषित करें।
आप अपनी रचनाएं सीधे अतिथि संपादक संजीव खुदशाह को ही प्रेषित कर सकते हैं।

भवदीय
संजीव खुदशाह
एम-II/156 फेस-1
संत थामस स्कूल के पास
कबीर नगर, रायपुर (छग)
पिन-492099
09977082331
sanjeevkhudshah@gmail.com
भवदीय
(रमणिका गुप्ता)
संपादक : युद्धरत आम आदमी
भवदीय