Friday, February 13, 2015

सफाई कामगार समुदाय का संशोधित पेपर बैक संस्‍करण प्रकाशित


राधाकृष्‍ण प्रकाशन द्वारा उत्‍कृष्‍ट साहित्‍य के जनसुलभ संस्‍करण के अंतर्गत चर्चित पुस्‍तक ''सफाई कामगार समुदाय'' का पुन: प्रकाशन हुआ है। साथ में लायब्रेरी संस्‍करण भी प्रकाशित किया गया है। लेखक संजीव खुदशाह जनसुलभ संस्‍करण में अपने विचार रखते है कि

पुस्तक प्रकाशन के 10 वर्ष हो गए। व्यापक स्तर पर इस पुस्तक को सराहा गया । कुछ लोंगों एवं संस्थाओं ने पुस्तक की प्रतियां खरीदकर वितरित भी की। हिन्दीतर पाठकों ने भी इस पुस्तक में दिलचस्पी‍ दिखाई । फलस्वसरूप मराठी, ओडिया और पंजाबी सहित अन्य भाषाओं में इसका अनुवाद हुआ। ये सब मेरे लिए किसी बडे पुरस्कार से भी ज्यादा है। मै उन सभी बुध्दिजीवियों, पाठकों, समाजसेवियों एवं संस्था ओं का हृदय से आभार व्यक्त करता हूँ। पाठकों द्वारा पुस्तक कम मूल्य में उपलब्‍ध कराऐ जाने की मांग आती रही है। इसलिए जनसुलभ संस्करण प्रकाशित होने पर मुझे भी बडी खुशी है।
प्रस्तुक संस्करण में हल्के फुल्के संशोधन किये गये है, कुछेक नई जानकारी भी इस किताब में शामिल कर रहा हूँ।
संपर्क राधाकृष्‍ण प्रकाशन नई दिल्ली +91 11 2327 8144